Sat. Oct 31st, 2020

लालू प्रसाद यादव के लाल तेज प्रताप यादव काशी विश्वनाथ दर्शन कर के आये फिर बताई अपनी मन्नत

तेज़ प्रताप यादव

-प्रणव उपाध्याय

अपने परिवार और पत्नी से रूठे और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव जो अभी जेल की सजा काट रहे है , लालू के लाल तेज प्रताप यादव ने गुरुवार शाम काशी में बाबा विश्वनाथ के दरबार मे मत्था टेका।

तेज प्रताप दर्शन कर के आये और बोले ……

तेज प्रताप आशीर्वाद लेने के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए नज़र आये उन्होंने बोला कि-मैंने बाबा विश्वनाथ से यही मांगा कि महागठबंधन विजय हो और देश आगे बढ़े। तेजप्रताप ने प्रधानमंत्री मोदी पे भी हमला करते हुवे बोले कि मोदी जी ने क्या किया वो देश की जनता देख रही है और आने वाले चुनाव में इसका जवाब देगी।इस दौरान उनके समर्थक भी मौजूद रहे।

पिछले दिनों पत्नी ऐश्वर्या से तलाक की अर्जी दाखिल करने के बाद तेज प्रताप यादव सुर्खियों में आए थे। इसके बाद वह रांची जेल में बंद पिता लालू प्रसाद यादव से मुलाकात करने गए थे। रांची से तेज प्रताप को पटना वापस लौटना था जहां उनका परिवार और पत्नी ऐश्वर्या इंतजार में थे लेकिन तेज प्रताप बोधगया में ही रुक गए। फिर यहां से वह वाराणसी के लिए कब निकले, इस बात की किसी को कानोंकान खबर तक नहीं हुई।

इसका यही अंदाजा लगाया जा रहा है कि तेज प्रताप खुद ही सुलह के मूड में नहीं हैं। आपको बता दें कि तेज ने गुरुवार को तलाक की अर्जी परिवार न्यायालय में दायर की थी। पिता लालू प्रसाद की बात न मानने के सवाल पर तेज ने कहा, ‘पापा मेरी बात मान रहे हैं, जो हम उनकी बातें मान लें। मेरे ममी-पापा, भाई-बहन सभी ऐश्वर्या का साथ दे रहे हैं।’ सवाल ये है कि जो अपने परिवार को नही संभाल पा रहा,क्या वो जनता की समस्या सुलझा पायगा।

लालू के लाल तेज प्रताप यादव हमेशा से भगवान की भक्ति के लिए मशहूर है रहते है क्योंकि यह उसी में मशलूल रहते है इस तरह से बात तय हुई लगती है कि वह अपन गृहस्त जीवन भी दुबारा पटरी पर ले आएं धर्मपत्नी ऐश्वर्या के साथ मिलकर क्योंकि चुनाव लोकसभा का वह लड़ने से रहे , लड़ाई घर में ही जो चल रही है

 

यह भी पढ़े  : बिहार भाजपा ने लोकसभा चुनाव के लिए अपने 14 प्रत्याशीयों का किया एलान

 

यह भी पढ़े  :– अप्रत्यक्ष रुप से बाहुबलियों द्वारा बिहार पर राज करने की कोशिश जारी

 

 

1 thought on “लालू प्रसाद यादव के लाल तेज प्रताप यादव काशी विश्वनाथ दर्शन कर के आये फिर बताई अपनी मन्नत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *