Fri. Jul 3rd, 2020

सुशील मोदी ने केंद्रीय वित्त मंत्री को लिखा पत्र, SHG के लिए की ये खास मांग

सुशील मोदी ने केंद्रीय वित्त मंत्री को लिखा पत्र , SHG के लिए की ये खास मांग
सुशील मोदी : एक फरवरी को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण देश का आम बजट पेश करने जा रही हैं। इससे पहले बिहार के डिप्टी सीएम सह वित्त मंत्री सुशील कुमार मोदी ने वित्त मंत्री को एक पत्र लिखकर प्रदेश में जीविका के तहत संचालित स्वयं सहायता समूह (SHG) की कर्ज सीमा बढ़ाने का आग्रह किया है।

पत्र के जरिए :

सुशील मोदी ने पत्र के जरिये SHG के विभिन्न चरणों में 1 से 5 लाख से बढ़ा कर 3 से 10 लाख करने के साथ, समूह के सभी सदस्यों को 10 हजार रुपये की ओवरड्राफ्ट की सुविधा बैंकों द्वारा देने की मांग की है। इसके अलावा राज्य के सभी जिलों में समूह के सदस्यों को 6 से 7 प्रतिशत ब्याज पर कर्ज देने की बात कही है.समय पर कर्ज की किस्त चुकाने वालों को 3 प्रतिशत ब्याज अनुदान देने, रिवाॅल्विंग फंड की सीमा 15 हजार से बढ़ाकर 50 हजार करने की भी मांग रखी है। डिजिटल साक्षरता को बढ़ावा देने के लिए सभी समूह को कम्प्यूटर, टैबलेट, प्रिंटर व अन्य संसाधन उपलब्ध कराने की मांग भी की है।

सुशील मोदी का सुझाव :

सुशील मोदी ने यह सुझाव भी दिया कि SHG वित्त पोषण को बढ़ाने के लिए ‘वुमेन इम्पाॅवरमेंट इन्टरपेन्योरशिप फंड बनाने की जरूरत है ताकि बैंक इसके जरिए अधिक से अधिक समूह को पर्याप्त कर्ज दे सके। पत्र में उन्होंने ने कहा है कि बिहार में जीविका के तहत 8 लाख से ज्याद स्वयं सहायता समूह के अन्तर्गत करीब एक करोड़ ग्रामीण महिलाएं जुड़ी हैं। जिनकी कर्ज वापसी की दर 98.5 प्रतिशत है।उन्होंने कहा है कि फिलहाल एक से चार चरणों में RRB सहित अन्य बैंकिंग संस्थाओं की ओर से समूह को 1 से 5 लाख रुपये तक का ही कर्ज मुहैया कराया जाता है। जिसे बढ़ा कर 3, 6, 8 और 10 लाख करने की जरूरत है.उन्होंने यह भी सुझाव दिया है कि सरकार के ‘डिजी ग्राम’अभियान को सफल बनाने के लिए SHG को कम्प्यूटर, टैबलेट, प्रिंटर व अन्य संसाधन उपलब्ध कराया जाए। इससे जहां वे सफलतापूर्वक वित्तीय लेन-देन करेंगे। वहीं कृषि उत्पादकता व बाजार से जुड़ी जानकारियों से भी रूबरू रहेंगे। सुशील मोदी ने कहा कि इन पहल से ग्रामीणों की आय को दोगुना करने में मदद मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *