Sun. Nov 1st, 2020

मनोहर पर्रिकर पर बोले सुशील मोदी:-राजनीति में सेवा, सादगी और समर्पण के प्रतीक थे

सुशील मोदी
बिहार के उपमुख्यमंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने गोवा के पणजी जाकर वहां के दिवंगत मुख्यमंत्री व देश के पूर्व रक्षामंत्री मनोहर पार्रिकर को अपना श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि वे राजनीति  में सेवा, सादगी और समर्पण के प्रतीक थे।
उनके कुशल नेतृत्व में भारतीय सेना को आतंकवाद के विरुद्ध सफल सर्जिकल स्ट्राइक करने का जो गौरव प्राप्त हुआ, उसे देश सदैव याद रखेगा। मोदी ने उनके परिजनों से मिलकर सांत्वना देते हुए ईश्वर से दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करने कि कामना की।

सुशील मोदी ने याद किया स्वर्गीय पर्रिकर जी को

सुशील मोदी ने साथ ही कहा, सत्ता जाने से जिन वंशवादी दलों को घोटाले करने और बेनामी संपत्ति बनाने के मौके नहीं मिल रहे हैं, वे सब मिल कर किसानों के खाते में सम्मान योजना की राशि डालने वाले, 6 करोड़ से ज्यादा गरीबों को मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन देने वाले और पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने वाले मजबूत प्रधानमंत्री मोदी को हटा कर देश का विकास बेपटरी करना चाहते हैं।
ऐसी नीयत रखने वाले कभी सफल नहीं होंगे. बिहार इस बार सभी 40 सीटें  एनडीए की झोली में डाल कर आतंकवाद और गरीबी से लड़ने वाले प्रधानमंत्री को पहले से ज्यादा शक्तिशाली बनाने वाला है। सवाल ये उठता है कि क्या मोदी  2014 से बड़ी जीत पाने में सफल होंगे,या फिर उनके मंत्री और कार्यकर्ता विफल साबित होंगे।

कैंसर से लड़ते -लड़ते भी काम करते गए मनोहार पर्रिकर

गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर का रविवार, 17 जनवरी को एक साल तक अग्नाशय के कैंसर से जूझने के बाद निधन हो गया। वह 63 साल की आयु के थेगोवा सीएम मनोहर पर्रिकर की तबीयत शनिवार को खराब हो गई थी , 16 मार्च को तटीय राज्य में पार्टियों के बीच राजनीतिक गतिविधियों की हलचल पैदा हो गई थी। वह एक अग्नाशय के कैंसर (पैंक्रिअटिक कैंसर) से पीड़ित थे पूर्व रक्षा मंत्री गोवा सीएम मनोहर पर्रिकर, जो एक वर्ष से अधिक समय से अग्नाशय की बीमारी से जूझ रहे थे, का 63 वर्ष की आयु में पणजी में उनके घर पर निधन हो गया। पूर्व रक्षा एवं गोवा सीएम अस्पताल में और बाहर लगातार अपना करवत्या निर्वाहन करते हुए संघर्ष कर रहे थे

यह भी पढ़ें – बागी बीजेपी नेता ने क्यों ख़ारिज किया “मैं भी चौकीदार अभियान” को

यह भी पढ़ें – पूर्वोत्तर रेलवे ने उठाया एक बड़ा कदम अब ट्रेनों में वेटिंग होंगे कम

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *