Fri. Aug 7th, 2020

सुपौल नाबालिग रेप केस में टीचर के खिलाफ केस हुआ दर्ज़

सुपौल नाबालिग रेप केस

सुपौल नाबालिग रेप केस : बिहार के सुपौल जिले के निर्मली थाना क्षेत्र में बिहार पुलिस ने एक शिक्षक के खिलाफ एक नाबालिग लड़की से कथित तौर पर बलात्कार करने का मामला दर्ज किया है।

पीड़िता ने पुलिस को एक लिखित शिकायत सौंपी थी, जहां उसने बताया कि शनिवार को दो लोगों ने उसे उसके घर के पास से अगवा कर लिया और उसे पुराने रजिस्ट्री कार्यालय के पास एक कमरे में ले गए।

शंभू के रूप में पहचाने गए शिक्षक ने नाबालिग के साथ कथित रूप से मारपीट और बलात्कार किया। उसने अपनी शिकायत में आगे कहा कि आरोपी उसे धमकी दे रहा है, जिससे परिवार डर गया है।

एएनआई से बात करते हुए, एसएसपी, रामानंद कुमार कौशल ने कहा, “हमने लड़की का बयान लिया है और आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया है। लड़की को मेडिकल परीक्षण के लिए अस्पताल ले जाया गया। आरोपी के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी।” आगे की जांच जारी है।

दो नाबालिग बच्चियों के साथ दुष्कर्म, पांच साल की बच्ची से छीना उसका बचपन

सुपौल नाबालिग रेप केस : सिस्टम खामोश क्यों है ?

पूरे बिहार में बेटियों की इज़्ज़त से खिलवाड़ किया जा रहा है और बक्सर, समस्तीपुर, कैमूर ,दरभंगा और अब सुपौल में बलात्कार की खबरों ने प्रदेश में कानून-व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए है। अब इस पर न ही डिप्टी सीएम सुशील मोदी साफ़ तौर पर बोलते दिख रहे है और न ही जल-जीवन-हरियाली यात्रा पर जाने वाले सीएम नीतीश कुमार जो पॉर्न साइट्स से होने वाली अश्लीलता को ही ऐसे अपराधों के पीछे मुख्य कारण मानते है।

इंटरनेट का हो रहा दुरुपयोग , पोर्न साइट्स पर पूरी रोक के लिए केंद्र को लिखेंगे पत्र

बलात्कार की शर्मनाक वारदातों ने लोगों का सिस्टम पर से विश्वास ही हटवा दिया है।  सरकार से सीधे तौर पर सवाल किया जा रहा और उसको चलाने वाले चेहरों को मुँह से कोई भी जवाबी स्वर नहीं निक रहा है।  बिहार प्रदेश के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी से जब मीडिया ने दरभंगा में मासूम बच्ची से के साथ हुए रेप पर सवाल किया तो उन्होंने सीधा जवाब देने की बजाय अपना मुँह दूसरी तरफ घुमाते हुए आगे बढ़ना ही बेहतर समझा।

जवाब और कार्यवाही तो सरकार को ही करनी होगी नहीं तो वह दिन दूर नहीं जब किसी बलात्कारी की मॉब लिंचिंग लोगों द्वारा कर दी जाएगी और फिर नया अतिवादी न्याय तंत्र ही खड़ा न हो जाए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *