Tue. Dec 1st, 2020

अनुराधा पौडवाल को अपनी मां कहने वाली महिला की याचिका की सुनवाई पर ….

अनुराधा पौडवाल को अपनी मां कहने वाली महिला की याचिका की सुनवाई पर ....
अनुराधा पौडवाल : अनुराधा पौडवाल को अपनी मां कहने वाली केरल की एक महिला के मामले की तिरुवनंतपुरम में सुनवाई पर रोक लगा दी है। करमला मेडॉक्स नाम की इस महिला ने अपने दावे के बाद इससे जुड़ी याचिका अदालत में दायर की थी। इस याचिका में दावा किया गया था कि वह लोकप्रिय पार्श्व गायिका अनुराधा पौडवाल की बेटी है। अब सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई तिरुवनंतपुरम में रोक दी है और इस मामले को मुंबई अदालत में ट्रांसफर करने का नोटिस जारी किया है।

गायिका का कार्यक्रम व्यस्त था :

अनुराधा पौडवाल और उनके पिता ने सुप्रीम कोर्ट में इस मामले को तिरुवंनतपुरम से मुंबई कोर्ट में ट्रांसफर करने की याचिका दर्ज की थी। ये मामला तिरुवंनतपुरम के फैमिली कोर्ट में चल रहा है। सीजेआई बेंच ने 30 जनवरी को इस मामले पर सुनवाई करते हुए ये फैसला सुनाया है।केरल की रहने वाली करमला मेडॉक्स नाम की इस महिला ने संवाददाताओं से बातचीत में दावा किया कि पौडवाल ने 1974 में उसे उसके पालक माता पिता पून्नाचन और एग्नेस के हवाले कर दिया था क्योंकि गायिका का कार्यक्रम व्यस्त था और वह उस समय बच्चे का पालन नहीं कर सकती थीं। इस महिला ने अपने जैविक माता पिता से 50 करोड़ रुपये का मुआवजा मांगा है। पद्म श्री और राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीत चुकी पौडवाल ने संगीतकार अरुण पौडवाल से विवाह किया था। मेडॉक्स के अधिवक्ता ने मीडिया को बताया, ‘‘पुन्नाचन का कुछ साल पहले निधन हो गया था। मरते समय उन्होंने मेडॉक्स को बताया कि वह अरुण एवं अनुराधा की जैविक पुत्री है।’’

अनुराधा पौडवाल ने उठाय सवाल :

वहीं अनुराधा पौडवाल ने इस महिला के सारे दावों को सिरे से खारिज कर दिया है। उन्‍होंने अपने एक इंटरव्‍यू में कहा कि ये मामला कुछ नहीं बल्कि इस महिला का मानसिक दिवालियापन है। वहीं अनुराधा डीएनए टेस्ट के सवाल पर बुरी तरह भड़क गईं। उन्होंने कहा कि कोई कुत्ता अगर उठकर भौंकना शुरू करे तो आप मुझसे उम्मीद नहीं कर सकते कि मैं भी भौंकने लगूं।उन्होंने ये भी बताया कि उनकी बेटी कविता तो 1997 में पैदा हुई थी। अनुराधा पौडवाल का मानना है कि ये लोग वसूली करने के लिए ऐसा कर रहे हैं। इसके अलावा केस दर्ज करने को लेकर भी अनुराधा पौडवाल ने कई सवाल उठाए। उन्होंने कहा, ‘मैं जानना चाहूंगी कि आखिर किस आधार पर कोर्ट ने केस स्वीकार कर लिया?’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *