Sat. Dec 7th, 2019

बिहार में रेलवे प्रोजेक्ट्स प्रगति है ज़ोरो पर, केंद्र सरकार ने दिया ब्योरा

बिहार में रेलवे प्रोजेक्ट्स

बिहार में रेलवे प्रोजेक्ट्स प्रगति : केंद्र सरकार ने शुक्रवार को कहा कि बिहार में रेलवे परियोजनाओं के लिए धन के आवंटन में 362 प्रतिशत की वृद्धि हुई है और 55 परियोजनाओं पर काम चल रहा है।

राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान अनुपूरक सवालों के जवाब देते हुए, रेल राज्य मंत्री अंगदी सुरेश चन्नबसप्पा ने कहा कि बिहार के लिए 4,093 करोड़ रुपये आवंटित किए गए है, 362 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, और राज्य में 55 परियोजनाएँ चल रही हैं।

हाजीपुर-मोहुआ रेल लाइन शुरू होने के विशिष्ट प्रश्न पर, उन्होंने कहा कि यह लगभग 14 साल पहले शुरू किया गया था लेकिन कुछ कारणों से लंबित है। “हाजीपुर-महुआ न्यू लाइन सेक्शन के लिए कोई सर्वेक्षण नहीं किया गया है। हालांकि, भगवानपुर (हाजीपुर से 20 किमी की दूरी पर स्थित) – महुआ (60 किमी) के बीच नई लाइन के लिए एक टोही-सह-यातायात-सर्वेक्षण (आरईटीएस ) को कार्य हेतु लिया गया है, ”केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने एक लिखित जवाब में कहा।

धोखेबाज़ दूल्हा हुआ एक्सपोज़ ! बीच शादी में आकर प्रेमिका ने फोड़ा उसका भांडा

बिहार में रेलवे प्रोजेक्ट्स से जनता को होगा लाभ 

इसके अलावा, उन्होंने कहा, नई लाइनों के सर्वेक्षण और मंजूरी की मांग एक सतत प्रक्रिया है। किसी परियोजना की मंजूरी पर अंतिम विचार वित्तीय और आर्थिक रिटर्न के आधार पर लिया जाता है।

बिहार में रेलवे प्रोजेक्ट्स प्रगति है और किसी भी शक नहीं करना चाहिए कि मोदी सरकार बिहार में रेलवे क्षेत्र पर ध्यान नहीं दे रही है। सीमित संसाधनों में बड़े परिणामो वाली परिजयोनजाओं को देने का काम मोदी सरकार ने पिछले कार्यकाल में भी दिखाया था और जिस तेज़ी से बिहार में रेलवे के प्रोजेक्ट्स चल रहे है उससे अगले दशक में जनता के लिए नई विकास की सुबह का होना तय है।

इसके लिए इंतज़ार भी करना पड़े तो वह कोई कमी नहीं है। उम्मीद की जानी चाहिए कि नए दशक में बिहार में रेलवे का नया विकास मॉडल स्थापित होगा जो पूरे भारत के लिए मिसाल बनेगा।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *