Sat. Dec 7th, 2019

मुंगेर के प्रणव कुमार ने बिहार जुडिशल सर्विस एग्जाम में किया कमाल

मुंगेर जिले के प्रणव कुमार ने बिहार न्यायिक सेवा परीक्षा में सफल होकर जिले का नाम रोशन किया है। मुंगेर के प्रणव कुमार ने अपने पहले प्रयास में बिहार न्यायिक सेवा परीक्षा में सफलता प्राप्त कर मुंगेर का नाम रोशन किया है। मुंगेर शहर के संदलपुर के रहने वाले सत्यदेव सिंह के 25 वर्षीय बेटे प्रणव ने अपने माता-पिता का नाम ऊंचा किया है।

मुंगेर के प्रणव कुमार से पहले बिहार की लाडली ने भी किया नाम रौशन

बिहार न्यायिक सेवा परीक्षा में पहले प्रयास में प्रणव को 284 वीं रैंक मिली। उन्होंने अपनी इस सफलता का पूरा श्रेय अपने परिवार को दिया है। अपनी सफलता के बारे में प्रणव कहते है कि परिवार के सदस्यों ने इसमें बहुत सकारात्मक योगदान दिया है। उनके पिता एक रेलवे कर्मचारी हैं और माँ एक गृहिणी हैं। उनके दादा की इच्छा थी कि वे न्यायिक मजिस्ट्रेट बनें।

प्रणव ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा देहरादून बॉर्डर स्कूल से पूरी की। जिसके बाद उन्होंने राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, रांची से बीए एलएलबी की डिग्री प्राप्त की है। इसके बाद उन्होंने पहले प्रयास में यह सफलता भी हासिल की। प्रणव के पिता अपने बेटे की सफलता पर बहुत गर्व महसूस कर रहे हैं। प्रणव के पिता का कहना है कि प्रणव बचपन से ही बहुत मेहनती था।

भाजपा-आजसू गठबंधन पोस्ट इलेक्शन ही क्यों होगा ?

इससे पहले मुजफ्फरपुर की रहने वाली लुइटनेन्ट शिवांगी ने इतिहास रचते हुए भारतीय जलसेना की पहली महिला पायलट बनने का गौरव हासिल किया है। वह 2 दिसंबर को बतौर पायलट ज्वाइन कर चुकी है। उन्होंने डीएवी पब्लिक स्कूल से अपनी स्कूली शिक्षा ग्रहण की है।उन्हें इंडियन नेवल अकादमी, एझिमाला में 27 एनओसी कोर्स के हिस्से के रूप में एसएससी (पायलट) के रूप में भारतीय नौसेना में शामिल किया गया और पिछले साल जून में वाइस एडमिरल एके चावला द्वारा औपचारिक रूप से कमीशन दिया गया।

न्‍यायिक सेवा परीक्षा का परिणाम ज़ारी

प्रणव और शिवांगी बिहार के युवाओं के लिए मिसाल है जो अपने लिए ही नहीं बल्कि देश के लिए भी कुछ करना चाहते है। आशा है कि आने वाले दिनों ऐसी ही उपलब्धियों वाले समाचार और पढ़ने-देखने को मिलेंगे।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *