Wed. Nov 25th, 2020

प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक में डूबा बिहार, नीतीश कुमार ने दी श्रद्धांजलि

प्रणब मुखर्जी

सोमवार 31 अगस्त को पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का निधन हो गया। वे काफी दिनों से कोमा में थे और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। साथ ही उनके फेफड़ों के संक्रमण का इलाज किया का रहा था। उनके निधन की जानकारी इनके पुत्र अभिजीत मुखर्जी द्वारा किए गए ट्वीट से प्राप्त हुई। इस ख़बर से बिहार शोक में डूबा हुआ है। राज्य की सियासी गलियारों में इनके राजनीतिक सफर को याद करते हुए इन्हें श्रद्धांजलि दी जा रही है।

बिहार के सीएम ने पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर शोक जताते हुए कही ये बातें

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भारत रत्न प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया। सीएम के अनुसार प्रणव मुखर्जी जाने-माने नेता होने के साथ साथ कुशल प्रशासक और प्रखर वक्ता थे। नीतीश ने कहा कि, ‘प्रणब राजनीति के ऐसे अजातशत्रु थे जिन्हें पक्ष और विपक्ष समान रूप से सम्मान देता था। बिहार के मुख्यमंत्री ने ये भी कहा है कि पूर्व राष्ट्रपति ने भारतीय राजनीति में शुचिता और नैतिक मूल्यों की लंबी लकीर खींची है।’

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि “प्रणब मुखर्जी से मेरा आत्मीय संबंध रहा है। उन्होंने कई मौकों पर मेरा मार्गदर्शन किया। उनके निधन से देश की राजनीति में शून्यता की स्थिति उत्पन्न हो गई है। उनका निधन मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति है।”

बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री ने भी जताया शोक

बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने भी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रणब मुखर्जी के आकस्मिक मृत्यु पर शोक व्यक्त किया। इन्होंने कहा कि, “प्रणब दा का जाना पूरे राष्ट्र के लिये अपूर्णीय क्षति है। उनका व्यक्तित्व शानदार था। ऐसे बिरले राजनेता बहुत कम पैदा होते हैं।’ राबड़ी ने कहा कि “प्रणब मुखर्जी ने देश के विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर लंबे समय तक रहकर देश की सेवा की करते हुए गरिमा को बढ़ाई है। उन्हें देश सदा याद रखेगा।”

पूर्व मंत्री व विधायक तेजप्रताप यादव व राज्यसभा सांसद श्रीमती मीसा भारती ने भी पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि, उनका निधन राजनीतिक एवं सामाजिक जगत के लिये अपूर्णीय क्षति है।

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने भी देश के पूर्व राष्ट्रपति के दुनिया से अलविदा कहने पर शोक जताते हुए एक ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने एक तस्वीर साझा करते हुए लिखा है कि, “सियासत के शिखर पुरुष प्रणब दा के सर्वगुणसंपन्न व्यक्तित्व के ही कारण NDA ने भी उनके राष्ट्रपति बनने का समर्थन किया था। 2019 में भारत रत्न से सम्मानित प्रणब दा हमेशा शोषित, वंचितों के कल्याण के लिए तत्पर रहे। उनमें दलीय राजनीति से ऊपर सबको साथ लेकर चलने की अद्भुत क्षमता थी।” वहीं लोकजनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने भी प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया।

 

अन्य खबरें पढ़ें सिर्फ बिहार एक्सप्रेस पर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *