Sun. Oct 25th, 2020

चुनाव की दुविधा ख़त्म होते ही सक्रीय हुए सभी दल, अब तक कोरोना की आड़ में टाल रहे थे चुनाव

पिछले काफी समय से बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर लगातार अटकलें चल रही थी कि चुनाव होगा या नहीं है। लेकिन बीते दिन मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा की घोषणा के बाद सभी दल सक्रिय हो गए हैं, जो अब तक कोरोना के बहाने चुनाव टालने की लगातार मांग कर रहे थे। बता दें कि चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने यह साफ कर दिया है कि बिहार विधानसभा चुनाव अपने समय पर ही होंगे। इसके बाद तमाम पार्टियाँ चुनाव की तैयारी में लग गयीं हैं वहीं दूसरी तरफ राजद की सक्रियता भी जोरों पर बढ़ी हुई है।

चुनाव की तयारी में जुटी सभी पार्टियाँ

कोरोना संकट के बीच जदयू की चार टीमें वर्चुअल तरह से सम्मेलन और तैयारियां कर रहे हैं। एक टीम कम से कम पांच विधानसभा क्षेत्र का सम्मेलन करती है, फिलहाल सक्रियता की बात करें तो इस वक्त सबसे ज्यादा सक्रिय अगर कोई पार्टी है तो वह राजद है जिसके विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव लॉकडाउन के बावजूद बाढ़ से प्रभावित उन तमाम इलाकों में जाकर हाल लेने पहुंच रहे हैं। वह लगातार इस तरह से सभी प्रयास कर रहे हैं उनकी पार्टी और वह खुद आने वाले विधानसभा चुनाव के लिए पूरी तरह से सक्रिय रहें और ज्यादा से ज्यादा वोटरों को इकट्ठा कर सकें।

26 जुलाई को सभी जिला अध्यक्षों, सचिवों और प्रधान महासचिवों की बैठक भी उन्होंने बुलाई है। जिसमें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए तेजस्वी सभी जिलों की तैयारियों की बारी-बारी से समीक्षा भी करेंगे। आंकड़ों की बात करें तो राजद ने अन्य सभी दलों की तुलना में सबसे अधिक तकरीबन 60 हजार बूथ समितियों का गठन कर लिया है। इसके लिए उन्होंने व्हाट्सएप तथा दुसरे ऑनलाइन संचार माध्यमों का सहारा लेते हुए समितियों का गठन किया है।

वैसे विधानसभा चुनाव के लिए तैयारी में भाजपा काफी पहले से जुटी हुई है और विधानसभा की वर्चुअल रैली और क्षेत्रीय बैठक के जरिए अपनी तैयारी में लगी हुई है। क्षेत्रीय बैठकों के माध्यम से प्रदेश जिला मंडल से लेकर बूथ स्तरीय नेताओं तथा कार्यकर्ताओं को भी इस तैयारी में जुटने के साफ निर्देश दिए जा चुके हैं। विधायक व पूर्व विधायक तथा तमाम प्रत्याशी सभी लोग बूथ स्तर पर चुनावी तैयारी में जुट चुके हैं और उसका संदेश पार्टी काफी पहले से ही दे चुकी है।

सभी पार्टियों की चुनावी तैयारी के विपरीत कांग्रेस की तैयारी काफी हद तक ठंडी लग रही है। पार्टी के तमाम प्रभारियों को 15 जुलाई से जिले में जाना था मगर इसी दौरान 16 जुलाई से लेकर 31 जुलाई तक बिहार में लॉकडाउन लगा दिया गया है। जिसके बाद तो ऐसा लग रहा है कांग्रेस इस रेस में पूरी तरह से बिछड़ती जा रहा है। खैर अब देखना है कि 31 जुलाई के बाद जब लॉकडाउन खुलता है तब कांग्रेस किस तेजी के साथ अपनी चुनावी तैयारियां शुरू करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *