Wed. Aug 12th, 2020

कबाड़ के सामान से बना है रेस्तरां , स्टायलिश लुक और क्वालिटी फूड

कबाड़ के सामान से बना है रेस्तरां , स्टायलिश लुक और क्वालिटी फूड
स्टायलिश लुक : आपने रेस्टूरेंट तो कई देखे होंगे, लेकिन क्या कभी किसी ऐसे रेस्तरां में गए हैं, जो कबाड़ की चीजों से बना हुआ हो। खटारा गाड़ियों से बना टेबल या रिसाइकिल्ड कुर्सी पर बैठकर डिनर करना, आपके लिए मजेदार अनुभव हो सकता है। ऐसा अनुभव लेना हो तो बिहार की राजधानी पटना में खुले इस अनोखे रेस्टोरेंट में आइए। पटना में ऐसा ही एक ढाबा है, जो गैरेज की थीम पर बना है। बाहर से ट्रक जैसा दिखने वाले इस रेस्तरां में जब आप अंदर जाएंगे तो कहीं पुरानी स्कूटी दिखेगी तो कहीं सजी-संवरी खटारा कार। कबाड़ की चीजों से बने इस रेस्तरां का हर कोना आपको कुछ अलग दिखेगा।

स्टायलिश लुक : संचालक हैं कुमार अंशु

पटना के बोरिंग रोड इलाके में हाल ही में खुले इस अनोखे रेस्तरां का नाम है कैफे-द-ढाबा। इस थीम-रेस्टोरेंट के संचालक हैं कुमार अंशु। अंशु कहते हैं कि किसी रेस्टोरेंट में क्वालिटी फूड के साथ-साथ वहां का लुक भी ग्राहकों को पसंद आना चाहिए। अगर कुछ नया या हट कर हो, तो ग्राहक ऐसी जगह पर बार-बार आना चाहेगा। यही सोचकर अंशु ने इस रेस्टोरेंट को शुरू किया है। रेस्तरां के अंदर स्कूटर को जहां डाइनिंग टेबल का रूप दिया गया है, वहीं पुरानी एंबेस्डर कार भी डाइनिंग-सेट जैसी है। आईएचएम श्रीनगर से होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई करने वाले अंशु ने बताया कि इस क्रिएटिव-रेस्टोरेंट के निर्माण से पहले उन्होंने काफी रिसर्च किया। ढाबे के आगे लगा ट्रक हो या पुरानी कार, हर चीज ढूंढने में काफी समय खर्च किया। अब जब ग्राहक इस अनोखे रेस्टोरेंट की तारीफ करते हैं, तो अंशु को लगता है कि उनकी मेहनत सफल हुई।

ग्राहक कर रहे तारीफ :

कैफे-द-ढाबा के अनोखे लुक और इसके स्वादिष्ट भोजन की ग्राहक भी काफी तारीफ करते हैं। यहां आई रागिनी ने बताया कि इस रेस्तरां का थीम उन्हें आकर्षित करता है। साथ ही दोस्तों के साथ सेल्फी लेने के लिए भी इस रेस्तरां में ढेर सारी जगह है। ग्राहक हर्ष ने बताया कि इस रेस्टोरेंट के जैसा डिफरेंट-लुक पटना में और कहीं देखने को नहीं मिलता। यहां का वॉश-बेसिन हो या नल, हर चीज अलग है, इसलिए दोस्तों या परिवार के साथ यहां आना अच्छा लगता है। आपको बता दें कि पटना के इस अनोखे रेस्तरां से पहले विद्युत भवन कैफे को भी इसी थीम पर क्रिएटिव-लुक दिया गया है। कुमार अंशु के रेस्तरां में आने वाले लोगों ने बताया कि कैफे-द-ढाबा भी विद्युत भवन कैफे से इंस्पायर्ड लगता है।
यह भी पढ़ें-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *