Mon. Jun 1st, 2020

प्रशांत किशोर का मोदी पर पलटवार , हार के बाद भी परिस्थितिवश डिप्टी सीएम बने

प्रशांत किशोर का सुशील मोदी पर पलटवार , हार के बाद भी परिस्थितिवश डिप्टी सीएम बने
परिस्थितिवश डिप्टी सीएम : बीजेपी और जनता दल युनाइटेड के बीच सीट शेयरिंग पर प्रशांत किशोर के ट्वीट के बाद से बिहार में सियासी उबाल है।एक तरफ बीजेपी जहां इसे लेकर हमलावर है, वहीं जेडीयू में पीके के समर्थन और विरोध की सियासत जारी है।सोमवार को उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने पीके के बयान पर तंज कसते हुए कहा था कि वो राजनीतिक चोला ओढ़कर अपना धंधा चमकाने में लगे हैं। अब पीके ने इस पर पलटवार करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की बड़े दल की भूमिका जनता ने तय की है और सुशील मोदी परिस्थितिवश बिहार का डिप्टी सीएम बने हैं।

पीके ने किया ट्वीट ,लिखा :

पीके ने अपने ट्वीट में लिखा, नीतीश कुमार का नेतृत्व और गठबंधन सरकार में JDU की सबसे बड़े दल की भूमिका बिहार की जनता ने तय किया है, किसी दूसरी पार्टी के नेता या शीर्ष नेतृत्व ने नहीं। वर्ष 2015 में हार के बाद भी परिस्थितिवश उपमुख्यमंत्री बनने वाले सुशील मोदी से राजनीतिक मर्यादा और विचारधारा पर व्याख्यान सुनना सुखद अनुभव है। पीके के इस ट्वीट का JDU नेता और बिहार सरकार में मंत्री श्याम रजक ने समर्थन करते हुए कहा कि केवल 2010 में ही नहीं बल्कि वर्ष 2005 में भी जेडीयू बड़ी पार्टी थी। लगातार राज्य की जनता ने नीतीश कुमार को बिहार की सेवा का मौका दिया है।

परिस्थितिवश डिप्टी सीएम : बीजेपी ने फिर किया पलटवार :

वहीं पीके के पलटवार वाले इस ट्वीट से बीजेपी नेता बिफरे हुए हैं। पार्टी के प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा कि प्रशांत किशोर की हैसियत सुशील मोदी के जूते की नोक के बराबर भी नही, वो अपनी मर्यादा में रहें।वहीं आरजेडी विधायक एज्या यादव ने कहा कि सुशील कुमार मोदी में अगर थोड़ा भी स्वाभिमान बचा है तो वो फौरन उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दें। वैसे जो बात आग प्रशांत किशोर ने कही है वो बात 2017 में ही तेजस्वी यादव ने कहा था। उन्होंने कहा कि सबसे बड़ी पार्टी और सबसे बड़ा जनादेश जनता ने आरजेडी को दिया था ये लोग तो जनता के जनादेश को धोखा देने वाले हैं।जनता वर्ष 2020 में इन दोनों को सबक सिखायेगी।
यह भी पढ़ें-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *