Tue. Nov 12th, 2019

मिशन चंद्रयान: रामविलास पासवान ने पीएम मोदी को बताया ‘असली लीडर’

मिशन चंद्रयान -2: रामविलास पासवान ने पीएम मोदी को बताया 'असली लीडर'
मिशन चंद्रयान:चंद्रयान-2 का चांद की सतह पर उतरने से ठीक पहले इसरो परिसर स्थित कंटोल रूम से संपर्क टूट गया।इससे वैज्ञानिकों के चेहरे पर मायूसी छा गई। इस असफलता के बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाया और उन्होंने इसरो के कंट्रोल सेंटर से देश को भी संबोधित किया।इसके बाद एक पल ऐसा भी आया जब इसरो चीफ के सिवन और पीएम मोदी दोनों ही भावुक हो गए।मोदी ने भावुक होकर इसरो चीफ को गले से लगा लिया,जिसकी वीडियो आज भारत मे खूब वायरल हो रही है।

मिशन चंद्रयान:पासवान बोले:-

हुवा ये कि इसरो कंट्रोल रूम में वैज्ञानिकों को दिए संबोधन के बाद पीएम बाहर निकले और भावुक इसरो चीफ फफककर रो पड़े। पीएम मोदी ने तत्काल उन्हें गले लगा लिया और हिम्मत दी।इस पल को पूरे देश ने टेलिविजन पर देखा।इसी पल के वीडियो को केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने अपने ट्वीटर हैंडल से शेयर किया और पीएम मोदी को असली लीडर बताया।उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, असली लीडर वही होता है जो मुश्किल घड़ी में भी अपनी टीम के साथ मजबूती से खड़ा रहे और उसका हौसला बढ़ाए।पासवान ने आगे लिखा कि देश की 130 करोड़ जनता को गर्व है अपने वैज्ञानिकों पर और पूरा विश्वास है कि आप अपनी मंजिल हासिल करेंगे और पूरी मजबूती से भविष्य के अभियानों को जारी रखेंगे।आप को बता दे की रात के समय इसरो के ऐतिहासिक पल के गवाह आधे से जादा हिंदुस्तान बन ने वाला था,लोग रात में जगे हुवे थे क्योंकि उनको पूरा विश्वास था इसरो पर।

मोदी ने इसरो की तारीफ की:-

एक वीडियो वायरल हो रही जिसमे मोदी ने इसरो चीफ की पीठ थपथपाई। इससे पहले  पीएम ने कहा कि हर मुश्किल, हर संघर्ष, हर कठिनाई, हमें कुछ नया सिखाकर जाती है, कुछ नए आविष्कार, नई टेक्नोलॉजी के लिए प्रेरित करती है और इसी से हमारी आगे की सफलता तय होती हैं उन्होंने कहा कि ज्ञान का अगर सबसे बड़ा शिक्षक कोई है तो वो विज्ञान है। विज्ञान में विफलता नहीं होती, केवल प्रयोग और प्रयास होते हैं।मैं सभी अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के परिवार को भी सलाम करता हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *