Sat. Oct 24th, 2020

बिहार में क्या RJD को माइनस कर महागठबंधन बनाने की चल रही तैयारी?

बिहार में क्या RJD को माइनस कर महागठबंधन बनाने की चल रही तैयारी?
महागठबंधन बनाने की तैयारी : क्या बिहार में मौजूदा महागठबंधन बिखर चुका है? क्या अब बिहार में माइनस राष्ट्रीय जनता दल महागठबंधन का स्वरूप बनाने की कोशिश हो रही है? क्योंकि जनता दल युनाइटेड का तो दावा है कि बिहार में महागठबंधन टूट के औपचारिक ऐलान का इंतजार है तो वहीं आरजेडी का कहना है कि उसके और तेजस्वी यादव के बगैर महागठबंधन की बात बेमानी है।

मीडिया से कोई बातचीत नही :

दरअसल शुक्रवार को राजधानी पटना के होटल चाणक्य में महागठबंधन की एक बैठक हुई थी। इसमें शरद यादव, आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा, वीआईपी पार्टी के प्रमुख मुकेश सहनी, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के प्रमुख जीतन राम मांझी शामिल थे।मीडिया को बताया गया था कि बैठक के बाद सभी नेता प्रेस से बात करेंगे लेकिन ऐसा नही हुआ। बगैर कांग्रेस और आरजेडी के हुई बैठक के बाद शरद यादव को छोड़ सभी नेता बिना कुछ कहे बाहर निकल गये। फिर लगा कि शरद यादव कुछ बोलेंगे, लेकिन उन्होंने भी दो दिन तक कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। अलबत्ता जीतन राम मांझी ने सिर्फ इतना कहा कि वो 18 फरवरी को बात करेंगे।

महागठबंधन बनाने की तैयारी : बीजेपी का हमला

इस पूरे प्रकरण को बीजेपी ने नाटक करार देते हुए कहा कि सिर्फ मीडिया में बने रहने के लिए महागठबंधन के लोग ये चोंचलेबाजी कर रहे हैं। बिहार सरकार के भूमि सुधार एवं राजस्व मंत्री रामनारायण मंडल ने कहा कि महागठबंधन में ऐसे दल शामिल हैं जो जनता द्वारा बुरी तरह से नकारे दिये गये हैं। अब महागठबंधन के दलों को कोई नहीं पूछ रहा तो उनके नेता सियासी ड्रामा कर मीडिया का ध्यान अपनी ओर खींच रहे हैं।हालांकि पटना के होटल में हुए महागठबंधन के तीन घटक दलों के नेताओं के साथ शरद यादव की मीटिंग पर आरजेडी ने कड़ा एतराज जताया है। आरजेडी के नेता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि बगैर तेजस्वी यादव के महागठबंधन की कल्पना नहीं की जा सकती। उन्होंने शरद यादव के साथ बैठक करने वाली पार्टियों को एक तरह से चेतावनी देते हुए कहा कि, जो तेजस्वी के रथ पर सवार नहीं होगा, उसकी नैया डूब जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *