Mon. Dec 9th, 2019

लालू को अपने राजनीतिक उत्तराधिकारी की घोषणा कर देनी चाहिए : पासवान

लालू को अपने राजनीतिक उत्तराधिकारी की घोषणा कर देनी चाहिए : पासवान
राजनीतिक उत्तराधिकारी की घोषणा : केंद्रीय मंत्री और लोजपा के संस्थापक रामविलास पासवान ने गुरुवार को कहा कि राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव सहित देश के अन्य वयोवृद्ध राजनेताओं को नई पीढ़ी को मौका देते हुए अपने-अपने राजनीतिक उत्तराधिकारियों की घोषणा कर देनी चाहिए।

राजनीतिक उत्तराधिकारी की घोषणा : नया जेनरेशन नया अध्यक्ष :

पटना के बापू सभागार में लोजपा के स्थापना दिवस पर आयोजित एक समारोह को संबोधित करते हुए रामविलास ने अपने पुत्र चिराग पासवान को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष और भतीजा प्रिंस राज को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने पर उन्हें शुभकामना दी। केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘हम तो दूसरे लोगों को भी कहेंगे, भईया नया जेनरेशन है, छोड़ते (पार्टी पद) क्यों नहीं हो? लालू जी जेल में बंद हैं। अपने ही बच्चों में से बनाना है (राजद का राष्ट्रीय अध्यक्ष)। चाहे तेजस्वी, तेजप्रताप या मीसा को बनावें, किसी को भी बना दें।’ देर करने की जरूरत ही क्या है क्योंकि सबको पता है की अभी लालू जी जेल से आने वाले है नही।

दुसरो को भी परिवारवाद की सिख :

झारखंड में शिबू सोरेन भी अपना (झामुमो प्रमुख का पद) पकड़े हुए हैं। मुलायम सिंह यादव को जब तक अखिलेश यादव ने नहीं हटाया, तब तक पद पकड़े रहे। उधर देवगौडा जी 93 साल के हो गए हैं। रामविलास पासवान ने कहा, ‘नया जेनरेशन आ गया है। अपने जीते जी देख लूं कि हमने जिस पौधे को लगाया है वह पौधा फल-फूल रहा है। हमारी जो आगे आने वाली पीढी है…हर बाप को चाहत होनी चाहिए कि हम जितनी दूरी पर पहुंचे हैं, हमारी संतान चाहे बेटा हो या बेटी, उससे भी आगे बढ़े। इसलिए पढाईए, लिखाईए अपना उत्ताधिकारी बनाकर उसे आगे बढ़ाने का काम कीजिए।’ पारस वर्ष 1977 से विधायक रहे। चिराग नक्सल प्रभावित जमुई से दोबारा भारी मतों चुनाव जीते। एक बात तो साफ थी कि रामविलास पासवान ने परिवारवाद को बढ़ावा देने में कोई कसर नही छोड़ी।
यह भी पढ़ें :-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *