Wed. Sep 23rd, 2020

CAB का विरोध करने कुछ नेताओं को पार्टी से सस्पेंड कर सकती है जेडीयू

CAB का विरोध करने कुछ नेताओं को पार्टी से सस्पेंड कर सकती है जेडीयू
पार्टी से सस्पेंड : नागरिकता संशोधन विधेयक  दोनों सदनों में पास हो गया। एनडीए में शामिल जेडीयू ने खुलकर इसका समर्थन किया और पक्ष में वोटिंग भी। जेडीयू के पहले के स्टैंड से अलग सदन में समर्थन में मतदान करने के तरीके ने सबको चौंका दिया। अब इस मुद्दे पर जेडीयू  के समर्थन के बाद पार्टी के भीतर से ही विरोध के स्वर उभरने लगे हैं। जेडीयू राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर, एमएलसी गुलाम बलियावी, एमएलए मुजाहिद आलम के साथ पार्टी के वरिष्ठ नेताओं गुलाम गौस और पवन वर्मा ने भी विरोध किया है। पार्टी सूत्रों के अनुसार अगर इन नेताओं के बयान ऐसे ही आते रहे तो इन पर कभी भी करवाई संभव है। और कारवाई होनी भी चाहिए क्योंकि ये पार्टी के लिए अच्छा नही क्योंकि जब पार्टी का मुखिया और कई अन्य सीनियर नेता इस बिल को समर्थन दे चुके है फिर क्यों विरोध हो रहा।

विरोध के सुर ने पार्टी की परेशानी बढ़ाई :

माना जा रहा है कि पार्टी में बढ़ते विरोध ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को परेशानी में डाल दिया है। पार्टी के अंदर बढ़ते विरोध के सुर ने पार्टी की परेशानी बढ़ा दी है। पार्टी सूत्रों की मानें तो विरोध दर्ज कराने वालों पर पार्टी ने कार्रवाई करने का मन बना लिया है। ऐसा इसलिए है कि सीएम नीतीश कुमार के फैसले के बाद पार्टी में फैसले का विरोध के उभरे स्वर ने सीधे नीतीश कुमार को चुनौती है।

पार्टी से सस्पेंड : जल्दी कारवाई की उम्मीद :

सूत्रों की मानें तो कार्रवाई जरूर होगी, लेकिन किस व्यक्ति पर किस तरह की कार्रवाई की जाएगी और इसका क्या प्रभाव पड़ेगा, इसका आकलन किया जा रहा है। माना जा रहा है कुछ का निलंबन हो सकता है। बता दें कि प्रशांत किशोर ने जहां ट्वीट कर खुलकर विरोध दर्ज किया है वही जेडीयू एमएलसी गुलाम रसूल बलियावी ने तो नीतीश कुमार को पत्र लिखकर विरोध कराया है। जदयू के विरोध दर्ज कराने वाले नेताओ पर कार्रवाई होने में देर की बात पर कहा कि जदयू को पार्टी टूट का डर है इसलिए कार्रवाई से डर रही है।इस बिल के समर्थन करने में पार्टी के कई नेताओं में नाराजगी है।

यह भी पढ़ें-

CAB और NRC के विरोध में जमायत ए उलेमा हिंद ने किया प्रर्दशन

नागरिकता कानून : JDU सांसद आरसीपी सिंह का प्रशांत किशोर पर बड़ा बयान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *