Sat. Jul 4th, 2020

बिहार में बिगड़ेंगे हालात:नेपाल में भारी बारिश की चेतावनी,पढ़े पूरी खबर

बिहार में बिगड़ेंगे हालात:नेपाल में भारी बारिश की चेतावनी,पढ़े पूरी खबर
बिहार में बिगड़ेंगे हालात:बिहार के 12 जिले बाढ़ की चपेट में हैं तो इसका बड़ा कारण नेपाल में हो रही भारी बारिश भी है। वहां के ऊपरी इलाके में हुई बारिश का पानी बिहार के निचले इलाके में तबाही लाती है और ये शिर्फ़ इसी साल नही हुवा,ये लगभग हर साल होता है। एक बार फिर नेपाल में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है और इसको लेकर  रेड अलर्ट जारी किया गया है। जाहिर है इससे बिहार के नेपाल लगे इलाके के लोगों की धड़कनें बढ़ गई हैं। आशंका जताई जा रही है कि पहले से बुरी तरह बाढ़ प्रभावित इलाकों में हालात और बिगड़ सकते हैं।

बिहार में बिगड़ेंगे हालात:नेपाल बिगाड़ेगा बिहार का खेल:-

बता दें कि गैर आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार बिहार में बाढ़ से अब तक 194 लोगों की मौत हो चुकी है।अभी आंकड़ा रुका नही है बल्कि अभी भी बढ़ ही रहा है। जबकि आपदा प्रबंधन विभाग ने अब तक 104 मौत की पुष्टि की है। विभाग से मिली जानकारी के अनुसार 12 जिलों के 1123 पंचायतों में 69.27 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं।ऊपर से नेपाल में बारिश का अनुमान धड़कने और बढ़ा देने वाला है।

ये है बाढ़ प्रभावित जिला:-

वहीं मौत के गैर आधिकारिक आंकड़ों पर जिलावार नजर डालें तो मोतिहारी में बाढ़ से अब तक 49, सीतामढ़ी में 34, मधुबनी में 23, दरभंगा में 20, पूणियां, अररिया और कटिहार में 14-14, शिवहर में 11 मौतें हो चुकी है।12 जिले हैं बाढ़ प्रभावित वहीं, किशनगंज में अब तक 7, सहरसा में 4, सुपौल और समस्तीपुर में 2-2 लोगों की मौत हुई है. बता दें कि शिवहर, सीतामढ़ी, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, अररिया, किशनगंज, सुपौल, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, सहरसा, कटिहार और पूर्णिया में जुलाई महीने की शुरुआत से ही बाढ़ का कहर है।
खबर तो ये भी मिल रही है कि मौसम विभाग ने भारी बारिश की चेतावनी भी जारी की है दिल्ली समेत कई राज्यो में जिसमे बिहार भी है,अनुमान है की 25 और 26 जुलाई को भयंकर बारिश हो सकती है।इस लिए मौसम विभाग ने पहले से ही चेता दिया है।इसमें सबसे अगर दिक्कत होने वाली है तो वो है बिहार।बिहार को जादा झेलना पड़ सकता है अगर मौसम विभाग की भविष्यवाणी सही साबित होती है तो,खैर अभी 25 तारीख का इन्तेजार करते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *