Sun. Jan 19th, 2020

बिहार पुलिस : 12 दिसंबर से गायब है मोकामा पुलिस का राजदार !

12 दिसंबर से 'गायब' है मोकामा पुलिस का राजदार ! परिजनों को छोड़ना पड़ा घर-बार
बिहार पुलिस : बिहार पुलिस का एक अजीबोगरीब कारनामा सामने आया है। आरोप है कि पटना पुलिस  ने एक शराबी  युवक को पकड़ने के बाद उसे लालच देकर अपनी अवैध वसूली का राजदार बना डालाा था। लेकिन अब महादलित समुदाय से आने वाला ये युवक बीते 12 दिसंबर से ही लापता है। परिजनों का कहना है कि दरअसल वसूली के क्रम में सतीश ने पुलिस का सारा राज जान लिया था, इस कारण वह गायब कर दिया गया है। परिजनों का आरोप है कि पुलिस अब उनके पीछे पड़ गयी है और लापता युवक के भाई-बहन ने भी दहशत में आकर घर-बार छोड़ दिया है। बताया जा रहा रहा है कि भाई-बहन की जान को भी खतरा है। हालांकि बिहार पुलिस मुख्यालय ने  सारे मामले की जांच सीआइडी से कराने का आदेश दिया है।

किसी फिल्मी कहानी से कम नही ये कहानी :

दरअसल सतीश की कहानी किसी फिल्म से कम नहीं है।लेकिन सतीश से ज्यादा इस कहानी में मुख्य किरदार है पटना के मोकामा थाना की पुलिस क्योंकि आरोप है कि ये पुलिसकर्मी सरकार द्वारा दी गई वर्दी को कानून-व्यवस्था बनाए रखने से ज्यादा उसे अपने नफा- नुकसान के लिए उपयोग में लाना बेहतर समझते हैं।सतीश के परिवारवालों का कहना है कि वह शराब पीने का शौकीन था। एक दिन मोकामा थाना पुलिस ने उसे शराब के बोतल के साथ पकड़ जेल भेज दिया। जेल से लौटने के बाद सतीश जब पैरवी के लिए थाना पंहुचने लगा तब  मोकामा थानाधय्क्ष के बॉर्डीगार्ड अमित कुमार के कहने पर सतीश पुलिस के लिये अवैध वसूली करने लगा।

बिहार पुलिस : पुलिस पे लगा गंभीर आरोप

घरवालों की मानें तो सतीश शराब का धंधा भी करने लगा था। एक दिन किसी बात को लेकर उसकी पुलिसवालों से अनबन हो गई। उसने धमकी दी की वह पुलिस के सारे राज का पर्दाफाश कर देगा। सतीश ने उस ऑडियो की चर्चा कर दी जो पुलिस वालों के साथ बातचीत के रूप में उसके पास मौजूद था।आरोप है कि इसके बाद से पुलिसवाले उसकी जान के पीछे ही पड़ गए।परिजनों का आरोप है कि मोकामा थानाध्यक्ष के बॉडीगार्ड अशोक के साथ की गई बातचीत में पुलिस की सारी करतूत वाला ऑडियो पुलिसवाले जबरन लेने की कोशिश करने लगे, लेकिन जब सतीश ने ऑडियो नहीं देने की बात की तो उसे धमकियां दी और इसी दौरान 12 दिसंबर से ही सतीश गायब हो गया। हैरानी की बात यह है कि महादलित जाति का यह पीड़ित परिवार एसएसपी से लेकर सूबे के पुलिस मुखिया डीजीपी तक गुहार लगा बैठा है, लेकिन पुलिस अधिकारी आज तक इस मामले में कुछ नहीं कर सके।इस बाबत एडीजी सीआईडी से बात की तो उन्होंने पूरे मामले की जांच करवाकर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की बात कही है। बहरहाल एडीजी भले जो कहे लेकिन पुलिस पर गंभीर सवाल उठ रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *