Wed. Feb 19th, 2020

बिहार के लोग आल्हा – उदल की तर्ज पर सुनेंगे सुशासन की कहानी

बिहार के लोग आल्हा - उदल की तर्ज पर सुनेंगे सुशासन की कहानी
सुशासन की कहानी : बिहार में विधानसभा चुनाव का वक़्त काफी नजदीक है, ऐसे में हर पार्टी अपने नेता को लेकर स्लोगन और नारे बनवा रही है। जेडीयू ने भी इसी क्रम में लोकगीत की तर्ज पर CM नीतीश कुमार के कार्यकाल का ‘बखान’ करने का फैसला किया है। पार्टी ने आल्हा-उदल की वीर रस की कविता के आधार पर बिहार के लोगों को ‘सुशासन की कहानी’ सुनाने का फैसला किया है। शायद ये पहला मौका है जब किसी नेता के लिए आल्हा-उदल के गीतों की तर्ज पर आल्हा बन रहा है।

सुशासन की कहानी : गाने में नीतीश के काम की तारीफ

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर स्थानीय संगीतकारों की टोली ने आल्हा की तर्ज पर गाना बनाया है। इस गाने की खासियत ये है कि इसमें नीतीश कुमार की वीरता के बखान की जगह, उनके विकास कार्यों का हवाला दिया गया है। गाना बनाने वाले संगीतकार की टोली ने तय किया है कि आल्हा की तर्ज पर बना गाना वे जेडीयू को सौंपेंगे, ताकि गाने के जरिए नीतीश के विकास कार्यों को जनता तक पहुंचाया जा सके। इस गाने को चुनाव में लोगों के बीच बंटवाने की तैयारी भी है।दरअसल, सोनी कला केंद्र के संगीतकारों की टीम नीतीश कुमार के विकास कार्यों को गाने के जरिए आल्हा-उदल के गीतों की तर्ज पर ढाला है। इसको लेकर एक एल्बम तैयार किया जा रहा है, जिसमें वीर रस की कविता के जरिए सीएम नीतीश के विकास कार्यों को सुरीले तानों में पिरोया गया है। गाना बनाने वाली टीम के मुखिया हैं धीरज सोनी। इस एल्बम में नीतीश कुमार के 15 सालों के कार्यों का उल्लेख किया गया है। साथ ही यह भी बताया गया है कि सीएम नीतीश कुमार कैसे बिहार को विकास की राह पर लेकर आए।

कलाकरों ने किया ये काम :

गाने के लेखक हैं जाने-माने लिरिक्स राइटर और सीनियर पत्रकार ह्रदय नारायण झा और गायक हैं शाहबाज खान। कोरियोग्राफर और डायरेक्टर धीरज सोनी हैं। इस गाने में धीरज सोनी और स्नेह लता गुप्ता ने लीड किया है और इसे पूरा किया है जेपी सिंह ने, जो पेशे से मरीन इंजीनियर हैं। इस एल्बम में बिहार के कई जाने-माने दिग्गज चेहरे नजर आएंगे। धीरज सोनी ने बताया कि वो एल्बम तैयार कर जेडीयू को सौंप देंगे। इसके लिए वो जेडीयू के सम्पर्क में भी हैं और उनकी जेडीयू के नेता आरसीपी सिंह से भी मुलाकात हो चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *