Mon. Jun 1st, 2020

मजदूरों के लिए की गई बसों की व्यवस्था पर नितीश कुमार के तीखे बोल, पीएम का लॉकडाउन होगा फेल

नितीश कुमार

भुखमरी और आश्रय की तलाश में दिल्ली से पलायन कर रहे मजदूरों के लिए की गई बसों की व्यवस्था पर बिहार के सीएम नितीश कुमार काफी नाराज दिखे और इसपर सवाल भी उठाया है। नीतीश कुमार ने इस मामले पर कहा कि चाहे दिल्ली हो या फिर कोई अन्य राज्य इस परिस्थिति में कहीं से लोगों को बुलाने से समस्या और बढ़ेगी। बिहार सरकार चाहती है कि जो जहां है वहीँ पर रहे और उनके रहने तथा खाने की व्यवस्था की जाए। यदि बसों में भरकर लोगों को भेजा जायेगा तो ऐसे में लॉकडाउन का कोई मतलब नहीं रह जाएगा। सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि नितीश कुमार ने इस घटना पर तीखी नाराजगी जताते हुए इस फैसले को पूरी तरह से गलत ठहराया और कहा कि इससे प्रधानमंत्री का लॉकडाउन फेल हो जायेगा।

बिहार से प्रेम है तो जहां हैं वहीं रहें : नीतीश कुमार

असल में दिल्ली, यूपी बॉर्डर पर जमा हजारों लोग जिनमे ज्यादातर दिहाड़ी मजदूर हैं, जिनका काम धंधा बंद हो चुका है। बहुत सारे लोग पैदल ही अपने गांव की ओर पैदल ही चल चुके हैं। इस सभी को घर पहुंचाने के लिए बसों की व्यवस्था का ऐलान किया है जिसके बाद निश्चित रूप से हज़ारों बिहार के निवासी भी अपने गांव पहुंचने की कोशिश करेंगे। निश्चित रूप से इस परिस्थिति में कोरोना संक्रमण का खतरा काफी ज्यादा बढ़ सकता है और इसी चिंता से नितीश कुमार नाराज हैं।

हालाँकि सीएम नितीश ने पलायन करने वाले लोगों से अपील की है अगर वो बिहार से प्रेम करते हैं और अपने राज्य को बचाना चाहते हैं तो जहाँ पर हैं वहीं पर रहें। उनके खाने पीने का प्रबंध सरकार कर रही हैं, लॉकडाउन में फंसे लोगों को हेल्पलाइन पर फोन के जरिए अपनी लोकेशन बतानी होगी जिससे मदद की जाएगी।

केजरीवाल और योगी सरकार ने की बसों की व्यवस्था

ये तो हम सभी के सामने है की देश में कोरोना वायरस का खतरा काफी तेजी से बढ़ते ही जा रहा है। वैसे तो सम्पूर्ण देश में लॉकडाउन लागू कर दिया गया है मगर इसकी वजह से कई लोगों की समस्या भी काफी बढ़ गयी हैं। लॉकडाउन के चलते हजारों मजदूरों को खाने की समस्या आन पड़ी है और ऐसे में वो सभी पैदल ही अपने घरों की ओर कूच कर रहे हैं। भारी संख्या में पलायन कर रहे मजदूर और श्रमिक हाईवे पर फंसे हैं। इस बीच यूपी और दिल्ली सरकार ने बसों के जरिए लोगों को पहुंचाने की व्यवस्था की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *