Wed. Feb 19th, 2020

झारखंड में वांटेड नक्सलियों की इतनी है संख्या !

झारखंड में वांटेड नक्सलियों

झारखंड में वांटेड नक्सलियों : झारखंड पुलिस के इस दावे के बावजूद कि राज्य से वामपंथी उग्रवाद का सफाया हो गया है, आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि कम से कम 193 कट्टर माओवादी विद्रोही 1 करोड़ रुपये तक के पुरस्कार के लिए वांटेड हैं।

पुलिस के आंकड़ों के अनुसार, पांच माओवादी विद्रोही अपने सिर पर 1 करोड़ का पुरस्कार ले रहे हैं, जबकि 62 माओवादी 1 लाख रुपये पुरस्कार ले रहे हैं, 32 प्रत्येक 2 लाख रुपये ले जा रहे हैं, 38 प्रत्येक 5 लाख रुपये ले जा रहे हैं, 25 प्रत्येक 10 रुपये ले रहे हैं 15, प्रत्येक 15 लाख रुपये और 15 प्रत्येक ले जाने वाले ने अपने सिर पर 25 लाख रुपये का इनाम रखा है। झारखंड  राज्य में कुल 193 वांटेड माओवादी हैं।

1 करोड़ रुपये का पुरस्कार लेने वाले पांच माओवादी लड़ाकू हैं जिनमें प्रशांत बोस उर्फ ​​किसंदा उर्फ ​​मनीष उर्फ ​​बुद्धा, मिसिर बेसरा उर्फ ​​भास्कर उर्फ ​​सागर, असीम मंडल उर्फ ​​आकाश उर्फ ​​तिमिर, अनल-दा उर्फ ​​तोफान उर्फ ​​पतिराम मांझी और प्रयाग मांझी उर्फ ​​विवेक उर्फ ​​विवेक के नाम शामिल हैं।

झारखंड में वांटेड नक्सलियों का होना है चिंता का सबब 

आरजेडी विधायक अरुण यादव पर कानूनी शिकंजा कसा

सूत्रों ने कहा कि जब झारखंड को बिहार से अलग किया गया था, तब दो माओवादी समूह थे – माओवादी कोआर्डिनेशन सेंटर और पीपुल्स वार ग्रुप। दोनों ने बाद में सीपीआई-माओवाद में विलय कर नए दल का गठन किया। कम से कम छह माओवादी संगठनों में पोस्ट मर्जर मंगवाए गए थे। झारखंड में सक्रिय महत्वपूर्ण माओवादी संगठनों में शामिल हैं- पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया, टीपीसी, जेजेएमपी, जेपीसी और अन्य विरल संगठन।

झारखंड के गठन के बाद, राज्य में 2,000 से अधिक कट्टर माओवादी गुरिल्ला सक्रिय थे। राज्य के निर्माण के बाद से, 510 सुरक्षाकर्मी और 846 माओवादी विद्रोही मारे गए हैं, जबकि 500 ​​माओवादियों ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार, राज्य में अभी भी कम से कम 400 माओवादी गुरिल्ला सक्रिय हैं। झारखंड के 24 में से 18 जिले नक्सल प्रभावित बताए जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *