Mon. Feb 17th, 2020

23 जनवरी से शुरू होगा नीलगायों को मारने का काम , वन विभाग का फैसला

23 जनवरी से शुरू होगा नीलगायों को मारने का काम , वन विभाग का फैसला
वन विभाग का फैसला : जंगली जानवरों द्वारा फसलों को लगातार नुकसान किए जाने के बीच किसानों की मांग के मद्देनजर जिला प्रशासन ने नीलगायोंं को मारने का निर्णय लिया है। 23 जनवरी से जिले में जंगली जानवर को मारने का अभियान शुरू किया जाएगा। किसानों के आन्दोलन की चेतावनी के बाद वन विभाग ने यह कवायद शुरू कर दी है और वन विभाग ने राज्य सरकार से भी अनुमति ले ली है। बताया जा रहा है कि 23 जनवरी को जिले के किसी एक प्रखण्ड से नीलगायों को मारने का अभियान शुरू किया जाएगा।उसके बाद बाकी के 15 प्रखण्डों में भी वन विभाग अभियान चलाएगा। दर्पिसल छले एक दशक से जिले के किसान जंगली जानवरों के आतंक से परेशान हैं। 3 साल पहले केंद्र सरकार ने जंगली जानवरों को मारने के लिए 2 साल का वक्त दिया था, लेकिन किसानों की समस्या धरी की धरी रह गई। उधर जंगली जानवरों का आतंक जारी रहा।

22 जनवरी को बनाया जाएगा मारने का प्लान :

मुजफ्फरपुर के जिला वन पदाधिकारी सुधीर ने मीडिया से बातचीत में बताया कि 22 जनवरी को अंतिम तौर पर जंगली जानवरों को मारने की रणनीति शूटरों के साथ बनाई जाएगी और 23 जनवरी से जिले में इस अभियान को शुरू किया जाएगा । किसानों के सहयोग से जिले में जंगली जानवरों के आतंक को खत्म किया जाएगा।वन विभाग के अधिकारी जंगली जानवरों को मारने के लिए शूटरों के साथ 22 जनवरी को रणनीति बनाएंगे और तय किया जाएगा कि किस प्रखण्ड से इसकी शुरुआत की जाए। बता दें कि मुजफ्फरपुर का सबसे अधिक प्रभावित इलाका सरैया प्रखंड माना जा रहा है जहां जंग नीलगाय का सबसे अधिक आतंक है।

वन विभाग का फैसला : हैदराबाद से बुलाए गए शूटर

बताया जा रहा है कि इसके बाद जिले के साहिबगंज, पारू, मोतीपुर, कांटी, औराई और मीनापुर इलाकों के अलावा जिले के उन तमाम इलाकों में वन विभाग जंगली सूअरों और नीलगायों को मारने का अभियान तेज करेगा जहां किसानों की लाख कोशिशों के बावजूद फसलों का नुकसान थम नहीं रहा।नीलगाय और जंगली सूअर को मारने के लिए हैदराबाद से विशेषज्ञ शूटर को मंगाया गया है। असगर अली और मोहम्मद अली जिले के जंगली जानवरों को सफाई करने का अभियान करेंगे। वन विभाग के अधिकारियों के अनुसार दोनों सूटर प्रोफेशनल हैं और सटीक निशाना लगाकर किसानों को राहत पहुंचाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *