Sat. Dec 7th, 2019

बिहार में 5 वर्ष से कम आयु के बच्चों में सबसे अधिक तीव्र श्वसन संक्रमण

तीव्र श्वसन संक्रमण

तीव्र श्वसन संक्रमण रिपोर्ट : बिहार ने सितंबर 2018 और जून 2019 के बीच पांच उच्च बोझ वाले राज्यों में पांच से कम बच्चों के बीच तीव्र श्वसन संक्रमण का सबसे अधिक प्रसार दर्ज किया। बिहार में पांच से कम बच्चों के बीच तीव्र श्वसन संक्रमण का प्रसार बिहार में 18.2 प्रतिशत था, इसके बाद उत्तर प्रदेश (15.9 प्रतिशत), झारखंड (12.8 प्रतिशत), मध्य प्रदेश (11.6 प्रतिशत) और राजस्थान (8.4 प्रतिशत) का स्थान आया है। इन आंकड़ों को “भारत में निमोनिया का स्थिति विश्लेषण”  शीर्षक वाली रिपोर्ट में मंगलवार को जारी किया गया।

रिपोर्ट में घरेलू वायु प्रदूषण बचपन निमोनिया के लिए महत्वपूर्ण जोखिम कारक के रूप में उभरा। एक गैर-लाभकारी चैरिटी संगठन,  सेव द चिल्ड्रन की रिपोर्ट में बताया गया है कि रसोई गैस पकाने के लिए बेहतर ईंधन का उपयोग करने वाले परिवारों के बच्चों पर निवारक प्रभाव पड़ा। खाना पकाने के लिए स्वच्छ ईंधन का उपयोग करने वाले घरों में तीव्र श्वसन संक्रमण (एआरआई) की संभावना 2 प्रतिशत कम थी।

राजद एमएलए शिवचंद्र राम ने प्याज़ की माला पहनकर करी नौटंकी

तीव्र श्वसन संक्रमण रिपोर्ट पर सरकार को लेना होगा एक्शन 

रिपोर्ट के अनुसार, निमोनिया के संकेतों के बारे में जागरूकता और जल्दी देखभाल की मांग का महत्व काफी कम है । यह एक महत्वपूर्ण अंतर है जिस पर ध्यान देने की आवश्यकता है। लगभग 81 प्रतिशत देखभालकर्ताओं ने बच्चों में निमोनिया के लिए चिकित्सा उपचार का लाभ उठाने के लिए निजी हेल्थ सेक्टर को प्राथमिकता दी। सार्वजनिक और निजी स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में निमोनिया के मामलों की अंडर-रिपोर्टिंग का काफी अंतर है जिसका उल्लेख रिपोर्ट में किया गया है।

रिपोर्ट में उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, झारखंड, राजस्थान के पांच उच्च-जनसंख्या वाले राज्यों के गहन मूल्यांकन से यह परिणाम सामने आए हैं। इसमें इन चुनौतियों का सामना करते हुए कार्रवाई का आह्वान किया गया है।

कोर्ट केस में फंसे तेजप्रताप, राजद दफ्तर में रोकर बताई अपनी परेशानी

स्वास्थ्य मंत्रालय के मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य इकाई के आयुक्त डॉ अजय खेरा ने बताया कि यह जन्म के समय देखभाल की गुणवत्ता में सुधार करने पर ध्यान केंद्रित है, जिसमें आशा कार्यकर्ताओं को लैस करना और माताओं को स्वास्थ्य केंद्रों तक पहुंचाना शामिल है।

“स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र स्वास्थ्य प्रणाली में एक नया प्रवेश है, जो जमीनी स्तर तक पहुंचने में मदद करेगा। सरकार ने बचपन के मातृत्व से निपटने के लिए वास्तव में महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित किए हैं और इस कारण पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं।

प्रोग्राम, सेव द चिल्ड्रेन के निदेशक, अनिंदित रॉय चौधरी ने कहा, “निमोनिया अभी भी बच्चों में मौत का प्रमुख कारण है और भारत में 5 में से 5 मौतों का 14.3 प्रतिशत है, जो हर 4 मिनट में 1 बच्चे की मृत्यु में बदल जाता है। 5 निमोनिया से होने वाली मौतों में भारत का योगदान 17 प्रतिशत वैश्विक है। ”

बिहार  सरकार को इस रिपोर्ट पर गौर करना चाहिए ताकि पाँच साल से कम उम्र ही नहीं अपितु हर वर्ग के बच्चे को स्वस्थ होकर जीने का हक़ मिल सके है। उम्मीद है आने वाले समय में केंद्र की मोदी सरकार और बिहार की नीतीश सरकार के प्रयासों से हालात सामान्य हो पाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *