Sat. Sep 26th, 2020

सुशांत सिंह राजपूत मामले में बिहार व महाराष्ट्र सरकार आमने-सामने, पढ़िए पूरी खबर

बिहार व महाराष्ट्र सरकार

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मामला अब राजनीतिक गलियारों में एंट्री मार चुका है। इस मामले में बिहार व महाराष्ट्र सरकार एक दूसरे के छक्के छुड़ाने की कोशिश में लगी हुई हैं। जहां महाराष्‍ट्र में शिवसेना सांसद संजय राउत ने बिहार व केंद्र सरकारों के साथ बिहार पुलिस व सुशांत के परिवार पर भी गंभीर आरोप लगाए वहीं, बिहार में बीजेपी ने महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे के नार्को टेस्‍ट की मांग की।

इस दौरान लोक जनशक्ति पार्टी ने महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे, उनके बेटे आदित्य ठाकरे तथा रिया चक्रवर्ती व मुंबई पुलिस का गधा जुलूस निकाला। जिससे कि साफ ज़ाहिर होता है कि बिहार में इस मामले को लेकर सियासत काफ़ी गर्म है।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र सरकार पर यह आरोप है कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में आरोपित द्वारा लीपापोती की कोशिश की गई तथा बिहार में दर्ज एफआइआर के आधार पर पटना पुलिस की जांच में बाधा भी डाला गया। ऐसा कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र सरकार मामले की जांच के विरोध में हैं।

शिवसेना सांसद के बयान पर बीजेपी-जेडीयू का करारा जवाब

केंद्र सरकार द्वारा इस मामले की जांच की अनुमति सीबीआई को प्राप्त हुई है जिसके विरोध में महाराष्ट्र सरकार ने आवाज़ उठाई है। विरोध जताते हुए शिवसेना सांसद संजय राउत ने आरोप लगाया है कि बिहार और दिल्ली में महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ बड़ी साजिश रची जा रही है। उनके इस बयान पर बिहार के सत्‍ताधारी जनता दल यूनाइटेड तथा भारतीय जनता पार्टी ने पलटवार किया है।

संजय राउत के बयान को शर्मनाक करारते हुए बीजेपी के प्रवक्‍ता डॉ. निखिल आनंद ने कहा कि सीबीआइ को संजय राउत और आदित्य ठाकरे का नार्को टेस्ट कराना चाहिए। वहीं, कांग्रेस नेता राहुल गांधी एवं प्रियंका गांधी को भी चुप्पी तोड़ने के लिए कहा। उन्होंने यह भी कहा कि, ‘सुशांत की मौत को लेकर संजय राउत ने एक घटिया आलेख लिखा, जिसमें सुशांत के परिवार, प्रशंसकों और बिहार का अपमान किया गया है।’

राज्य में बीजेपी का मानना है कि शिवसेना सीबीआइ जांच से घबराई हुई है। उन्हें शक है कि आरोपियों के साथ शिवसेना के घनिष्‍ठ संबंध-संपर्क हैं। बीजेपी नेता के अनुसार अब सीबीआइ को संजय राउत एवं आदित्य ठाकरे से भी पूछताछ करनी चाहिए, जिससे के रहस्य से पर्दा उठ जाए।

महाराष्ट्र सरकार के विरोध में जदयू ने कही ये बड़ी बात

राउत के बयान और सीबीआइ जांच पर आपत्ति के सवाल पर जेडीयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह का भी यही कहना है कि आखिर उद्धव ठाकरे सीबीआई जांच से क्यों घबरा रहे हैं? उन्होंने ये भी सवाल किए कि ‘क्या सीबीआइ पर भी भरोसा नहीं है? महाराष्ट्र पुलिस ने 60 दिनों में कौन सी जांच कर ली?’

पटना में इस पार्टी ने निकाला उद्धव का गधा जुलूस

महाराष्ट्र सरकार के रवैए के विरोध में एलजेपी द्वारा पटना में उद्धव ठाकरे, आदित्य ठाकरे, रिया चक्रवर्ती और मुंबई पुलिस का गधा जुलूस निकाला गया। पार्टी का कहना है कि सुशांत सिंह की मौत के मामले में ज़रूर किसी राजनीतिक हस्‍ती का हाथ है।

एलपीजी के अनुसार इस मामले में महाराष्ट्र सरकार और वहां का पूरा पुलिस-प्रशासन बिहार पुलिस के बाद अब सीबीआइ जांच में भी बाधा डाल रहा है, जिससे कि यह ज़ाहिर होता है कि ज़रूर कुछ दाल में काला है।

 

अन्य खबरें पढ़ें सिर्फ बिहार एक्सप्रेस पर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *