Wed. Nov 13th, 2019

भभुआ जेल में भी गूंज रहे छठी मइया के गीत , सुविधाएं मुहैया करा रहा जेल प्रशासन

भभुआ जेल में भी गूंज रहे छठी मइया के गीत , सुविधाएं मुहैया करा रहा जेल प्रशासन
भभुआ जेल : गुरुवार को नहाय-खाय के साथ छठ महापर्व की शुरुआत होते ही भभुआ मंडल कारा में छठी मइया के गीत से गुंजायमान हो रहे हैं। जेल के अंदर भी पूरा माहौल भक्तिमय हो गया है। दरअसल जेल के भीतर बंद चार महिलाओं ने भी छठ कर रही हैं और कठिन अनुष्ठान में लीन हो गयी हैं। सबसे खास बात ये कि जेल प्रशासन भी इन छठ व्रतियों के लिए लिए प्रसाद के साथ-साथ अन्य व्यवस्था कर रहा है।गौरतलब है कि छठ व्रत करने के लिए इन चारों महिला बंदियों ने जेल प्रशासन से मंडलकारा के अंदर छठ व्रत करने की अनुमति मांगी थी। इस मांग पर मंडल कारा प्रशासन ने जेल के अंदर छठ पूजा करने की अनुमति दे दी।

भभुआ जेल :  प्रशासन कर रहा मदद :

इसके साथ ही कारा प्रशासन ने पूजा सामग्री सहित पर्व में उपयोग आने वाली अन्य चीजों का भी इंतजाम कर दिया है। छठ के पहले दिन गुरुवार को चारो बंदी महिला व्रतियों ने कद्दू और चने की दाल और भात का प्रसाद बनाया और उस प्रसाद को बंदियों के बीच बांटा गय। ये एक अच्छा काम भी है प्रशासन का जो की उनकी संस्कृति को जिंदा रखने में मदद कर रही।

जेल के अंदर छठ करने की मांगी थी अनुमति :

दरअसल मंडलकारा भभुआ में बंद 14 महिला बंदियों में से भभुआ शहर के वार्ड संख्या 20 निवासी स्वर्गीय सुदामा चौधरी की पत्नी मुआ कुंवर और किलनी चांद निवासी सूरज यादव की पत्नी आशा देवी, रूपपुर भभुआ निवासी नगीना साह की पत्नी आशा देवी और सराय थाना मोहनिया निवासी और मंडलकारा में बंद चंद्रदेव विंद की पत्नी सिंधु देवी ने परिवार पर आयी विपत्ति और उनके सुख शांति के लिये छठ का व्रत करने का निर्णय लिया है।सहायक जेल सुपरिटेंडेंट सुभाष कुमार ने बताया कि इन महिला बंदियों ने उनसे इसबार जेल के अंदर ही छठ व्रत करने की अनुमति मांगी थी। इसके लिये अनुमति देते हुए कारा प्रशासन की ओर से उनकी पूरी मदद की जा रही है। पूजन सामग्री बनाने के लिये जेल के अंदर ही चूल्हे का निर्माण कराते हुए ईंधन भी उपलब्ध करा दिया गया है।

यह खबरें भी पढ़ें:-

 

मंदिर के तबला वादक ने की खुदकुशी , पुलिस ने बताई ये वजह

 

कई वर्षों से छठ पूजा कर रही हैं मुस्लिम महिलाएं , छठी मैया ने मन्नत की है पूरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *