Mon. Oct 18th, 2021

बीजेपी से गठबंधन पर जेडीयू में तनातनी, पार्टी महासचिव ने नीतीश को लिखी चिट्ठी

बीजेपी से गठबंधन पर जेडीयू में तनातनी , पार्टी महासचिव ने नीतीश को लिखी चिट्ठी
नीतीश को लिखी चिट्ठी : दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन को लेकर जनता दल-यूनाइटेड में रार मच गई है। पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव पवन कुमार वर्मा ने मंगलवार को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखा है। पत्र में पवन वर्मा ने सवाल उठाया है कि जेडीयू ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी के साथ गठबंधन कैसे कर लिया? वर्मा ने अपने पत्र के जरिए नीतीश कुमार से कहा है कि वह इस मामले पर अपनी बात स्पष्ट करें. वर्मा ने कहा है कि ऐसे में जबकि CAA, NRC और NPR को लेकर बीजेपी का देशव्यापी विरोध हुआ है, जेडीयू ने बिहार के बाहर ऐसी पार्टी के साथ कैसे गठबंधन कर लिया। हालांकि जदयू के बिहार प्रदेश अध्यक्ष बशिष्ठ नारायण सिंह ने वर्मा के पत्र को बेमतलब का करार दिया है।

नीतीश को लिखी चिट्ठी : पत्र में लिखा कि

पवन वर्मा ने अपने पत्र में कहा है कि नीतीश कुमार के इस कदम से वे काफी आहत हैं। उन्हें उम्मीद है कि नीतीश कुमार इस पर अपने विचार स्पष्ट करेंगे। पत्र में उन्होंने नीतीश को लिखा है, ‘भारतीय विदेश सेवा से इस्तीफा देने के बाद 2012 में मेरी आपके साथ बात हुई थी। उस समय आपने विस्तार से इस बात पर चर्चा की थी कि किस तरह नरेंद्र मोदी की नीतियों इस देश को नुकसान पहुंचेगा। आपने जब बिहार में महागठबंधन बनाया, उस समय ‘आरएसएस मुक्त भारत’ का नारा दिया। यहां तक कि जब आपने 2017 में पाला बदलकर दोबारा बीजेपी के साथ गठबंधन किया, उसके बाद भी बीजेपी के प्रति आपके निजी विचार नहीं बदले।’

पत्र के जरिए रखा अपना विचार :

पवन वर्मा ने नीतीश और भाजपा के संबंधों को लेकर भी पत्र में विचार रखे हैं। नीतीश कुमार को संबोधित पत्र में उन्होंने आगे कहा है, ‘आपने कई मौकों पर मुझसे यह कहा कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के कदमों से आप अपमानित महसूस कर रहे हैं। फिर भी आपने खुद को संभाले रखा। भाजपा द्वारा देश की महत्वपूर्ण संस्थाओं को नष्ट किए जाने के खिलाफ लोकतांत्रिक और समाजवादी विरोध की आपने जरूरत बताई है। अगर ये आपके विचार हैं, तो मैं समझ नहीं पा रहा हूं कि बिहार के बाहर आपने बीजेपी के साथ दिल्ली में गठबंधन कैसे कर लिया। CAA, NRC और NPR के मामले पर अकाली दल के विरोध के बाद भी यह गठबंधन होना, समझ के बाहर है। इसलिए आपको जल्द से जल्द इस पर अपनी राय स्पष्ट करनी चाहिए।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिहार एक्सप्रेस ताज़ा ख़बरें