Wed. Nov 13th, 2019

फिसड्डी स्कूलों के अच्छे दिन, शिक्षा विभाग ने उठाया शिक्षा को सुधारने का कदम

फिसड्डी स्कूलों के अच्छे दिन

शिक्षा विभाग ने फिसड्डी स्कूलों के अच्छे दिन लाने का फैसला लिया है। पढ़ाई-लिखाई को एक सही स्थान पर लाने के लिए शिक्षा विभाग अब विशेष मुहिम चलाएगी। शिक्षा विभाग इसके लिए जल्द ही काम शुरू करने जा रहा है। इसके लिए पहले सबसे ज्यादा जोर बच्चों में सीखने की क्षमता (लर्निंग आउटकम) को बढ़ाने को लेकर होगा। निति आयोग के द्वारा अभी हाल में ही जारी हुई रिपोर्ट में ज्यादातर राज्यों के पीछे रहने की वजह लर्निंग आउटकम का ख़राब प्रदर्शन ही था। निति आयोग की इस रिपोर्ट के बाद से शिक्षा विभाग ने इसपर काम करने का फैसला लिया है। सभी जिलों के अफसरों को स्कूलों में जाकर पढ़ाई की गुणवत्ता को जांचने-परखने और कमियों को सुधारने का टॉस्क सौंपा है।

फिसड्डी स्कूलों के अच्छे दिन, छात्रों को मिलेगी बेहतर शिक्षा

शिक्षा विभाग के एक अफसर ने बताया कि लर्निंग आउटकम में आज पीछे रहने की वजह स्कूलों में पढ़ाई पर ध्यान न देना है। आज के समय में पढ़ाई-लिखाई से जयादा मिड-डे मील से लेकर मुफ्त में ड्रेस, किताबें आदि पर ही सबसे ज्यादा जोर है। इस वजह से शिक्षकों का ज्यादा से ज्यादा समय इन्ही सब में निकल जाता है। एक कमी शिक्षकों की योग्यता में भी है। यह सब देखते हुए शिक्षा विभाग ने फैसला लिया है कि जो शिक्षक हर काम में ज्यादा काबिल हैं और पढ़ने-लिखने में ज्यादा रूचि रखते हैं, उन्हें रोले मॉडल के रूप में छात्रों के बीच लाया जायेगा। इससे बाकि शिक्षकों को ऐसे शिक्षक से प्रेरणा मिल सकेगी।

 

यह भी पढ़ें- राम मंदिर फैसला: सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त और शांति की अपीलें, शासन से लेकर प्रशासन तक चौकन्ना

शिक्षकों को नियमित समय से आना होगा

शिक्षा विभाग का पूरा ध्यान बच्चों की पढ़ाई को सही ढंग से करवाना है। इस मुहिम के जरिये स्कूलों की शैक्षणिक व्यवस्था को मजबूत बनाने और शिक्षकों की उपस्थिति सुनिश्चित करने पर है। पहला काम शिक्षकों की कमी को खत्म करना है कर मौजूद शिक्षकों को दुबारा से ट्रेनिंग देना है। साथ ही स्कूलों से शिक्षकों की तैनाती को लेकर एक फार्मूला तैयार किया जा रहा है, ताकि सभी स्कूलों को बच्चों के एनरोलमेंट के लिहाज से शिक्षक मिल सके। शिक्षा का अधिकार कानून में तय प्रावधान के तहत प्रत्येक 25 छात्र पर एक शिक्षक होने चाहिए।

बिहार की राजनीति, मनोरंजन, जीवनशैली, खेल इत्यादि से जुड़ी ख़बरें अब सिर्फ बिहार एक्सप्रेस पर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *