Tue. Apr 7th, 2020

बिहार में दिखने लगा चुनाव का असर, उपभोक्ताओं को दी गई बिजली दरों में राहत

बिहार

जैसे जैसे बिहार में विधानसभा चुनाव की घड़ी नजदीक आ रही है वैसे वैसे अब भर की जनता को भी चुनावी तोहफे मिलने शुरू होने लगे हैं। जी हाँ, इसका ताजा ताजा उदाहरण देखने को तब मिला जब मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने राज्य में बिजली उपभोक्ताओं को थोड़ी राहत देने का फैसला किया है। बताया जा रहा है कि सीएम नितीश ने इसके तहत बिहार में बिजली की दरों को कुछ हद तक कम कर दिया है।

इससे पहले बताया जा रहा था कि बिजली दरों मे इजाफे का प्रस्ताव पेश किया गया था मगर बिहार विद्युत विनियामक आयोग ने इस प्रस्ताव को खारिज करते हुए बिजली दर कम करने का फैसला लिया है। फिलहाल ताजा जानकारी के अनुसार नई दरों में घरेलू और व्यवसायिक उपभोक्ताओं के लिए बिजली की दर 10 पैसे प्रति यूनिट कम की गई है। आपको ये भी बताते चलें कि बिजली की ये नई दरें 1 अप्रैल से आम जनता के लिए लागू हो जाएँगी।

उपभोक्ताओं को अब नहीं देना होगा मीटर शुल्क

यदि आप भी बिहार के निवासी हैं तो आपको यह जान लेना चाहिए कि बिहार विद्युत विनियामक आयोग द्वारा प्रस्तावित नए टैरिफ के अनुसार राज्य में अब से मीटर शुल्क की व्यवस्था को समाप्त कर दिया गया है जिसके बाद अब किसी भी उपभोक्ताओं को मीटर शुल्क भी नहीं देना पड़ेगा। गुजरात तमिलनाडु के बाद बिहार ऐसा तीसरा राज्य होगा जहां मीटर शुल्क को समाप्त किया गया है।

21 घंटे बिजली मिलने पर ही देना होगा फिक्सड चार्ज

सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि कुटीर ज्योति और ग्रामीण घरेलू उपभोक्ताओं के लिए बिना मीटर के बिजली देने की व्यवस्था खत्म कर दी गई है। चुनाव को देखते हुए मौजूदा सरकार बिहार में एक से बढ़कर सौगात दे रही है जिसके अंतर्गत औद्योगिक उपभोक्ता को राहत देने के मकसद से और उनकी मांग को देखते हुए आयोग ने फैसला किया है कि उपभोक्ता से फिक्सड चार्ज की वसूली तभी की जाएगी जब उन्हें पूरे महीने प्रतिदिन कम से कम 21 घंटे बिजली दी जाएगी। खैर ये तो अभी शुरुवात भर है, अभी तो चुनाव में भी काफी वक़्त है और तब तक देखना है की बिहार की जनता को और क्या क्या लाभ मिलता है और जनता किसे सर आँखों पर बिठाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *