Mon. Dec 9th, 2019

चिलब्लेन की बीमारी- ऐसे मौसम में होती है हाथ पैर में सूजन, जाने बचाओ

ठंड मौसम की बीमारियां

ठंड मौसम चिलब्लेन की बीमारी हो जाती है। ठंड से तो लोग परेशान होते ही उसके साथ ही ऐसे मौसम में होने वाली बिमारियों से भी परेशान रहते हैं। ज्यादातर इस मौसम का असर बच्चों और बुजुर्गो को होता है। अभी तो ठंडी कम है तो कैसे भी कर के चल जायेगा लेकिन इसके बढ़ते ही बिमारी का सिलसिला भी शुरू हो जायेगा। बुधवार को एसकेएमसीएच में ओपीडी में 1453 नए समेत 4500 से अधिक मरीज इलाज को पहुंचे। इसमें गंभीर रूप से बीमार 67 मरीजों को भर्ती किया गया। आर्थो विभाग की ओपोडी में 369 मरीज इलाज को पहुंचे।

ठंड मौसम में होती है चिलब्लेन की बीमारी

हाथ पैर में सूजन की बिमारी से कई लोग परेशान हैं। औषधि एवं शिशु विभाग के साथ चर्म रोग विभाग की ओपीडी में भी मरीजों की काफी भीड़ रही। इसमें 50 फीसद से अधिक मरीज हाथ पैर में सूजन की परेशानी लेकर पहुंचे थे। शिशु विभागाध्यक्ष डॉ. गोपाल शंकर साहनी, चर्म रोग विभाग के डॉ. अवधेश कुमार एवं आर्थो विभाग के डॉ. कुमार गौरव ने इसे चिलब्लेन नामक बीमारी होना बताया है। इस बीमारी से ठंड के दिनों में लोगों की विशेष कर परेशानी बढ़ जाती है। यह बिमारी ठंड में लोगों को परेशान कर देती है। ठण्ड में गरम कपड़े ही पहने।

 

Image result for चिलब्लेन बीमारी"

 

चिकित्सकों ने बताया की इसे चिलब्लेन है। चिलब्लेन खासतौर से ठंड में होता है। चिलबेलन ठंड मौसम में हाथ एवं पैर की उँगलियों पर लाल निशान बनने लगते हैं या फिर खुजली के साथ सूजन की बिमारी को कहते हैं। अगर ज्यादा खुजली होने लगे तो हाथ पैर जख्मी होने लगते हैं। यह एक कनेक्टिव टिश्यूज डिजीज है। इस बीमारी से सामान्य सावधानी बरते जाने से बचा जा सकता है। आपको ऐसी बिमारी न हो इसलिए अपना ऐसे मौसम में ख्याल रखें। आपको इस बीमार का शिकार नहीं होना है तो अपना बचाओ करें।

 

Image result for चिलब्लेन बीमारी"

यह भी पढ़ें- गीतकार संतोष आनंद की प्रेम कहानी, इतनें सालों बाद मिली बिछुड़ी प्रेमिका

जानिए कैसे करना है चिलब्लेन से बचाओ

  • बदलते ठन्डे मौसम में ठन्डे पानी का सेवन नहीं करनी चाहिए। हाथ पैर को धोने के लिए गरम पानी का इस्तमाल करें।
  • ठंड के मौसम में गरम कपड़े पहने और नियमित रूप से हाथ में दस्ताना एवं पैर में मोजा पहने। हो सके तो ऊनी और सूट कपड़ों का ही इस्तमाल करें।
  • सरसों तेल को गर्म कर हाथ पैर में मालिश करना चाहिए। ठंड पानी से नहाना नहीं चाहिए।
  • धुप जरूर लेना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *