Sun. Jun 7th, 2020

डायरिया का कहर बढ़ा : जानिए कितने लोग हुए डायरिया के शिकार?

डायरिया का कहर बढ़ा

डायरिया का कहर बढ़ा : मधेपुरा में डायरिया के शिकार बने छह लोग सदर अस्पताल में भर्ती हुए हैं। इन मरीजों को उल्टी और दस्त से निजात नहीं मिल रही है। इनके परिजनों के अनुसार रात से सुबह तक मरीज़ उल्टी व दस्त से जूझता रहता है।

डायरिया का कहर बढ़ा : डॉक्टर का क्या कहना है?

जीवछपुर निवासी सीता देवी, तुरकाही शिवरानी कुमारी ने पुत्री संगीता कुमारी को उल्टी और दस्त होने पर भर्ती किया गया है। बनचोलहा गांव की मौसम कुमारी, शहर के वार्ड दो के मो चांद, शंकरपुर लाही की कांगो देवी भी उल्टी और दस्त होने पर अस्पताल में भर्ती हुई। वहीं  डॉ. यश शर्मा के अनुसार भीषण गर्मी और खान पान में गड़बड़ी के चलते डायरिया के मरीज बढ़ रहे हैं। इसमें लोगों को धूप से बचकर रहने को कहा गया है साथ ही पानी ज्यादा पीना पड़ेगा।

ईशान किशन के घरवालों पर हमला जानिए क्यों किया ऐसा ?

डायरिया का कहर बढ़ा : किन किन परेशानियों से जूझ रहे मरीज़?

मंगलवार को सदर अस्पताल मधेपुरा में इलाज कराने आए मारीजों को काफ़ी परेशानियां झेलनी पड़ रही है। रविवार को ओपीडी बंद रहने और सोमवार को पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के साथ मारपीट के मामले के कारण आईएमए के आह्वान पर डॉक्टरों की हड़ताल के वजह से मंगलवार को मरीजों की भारी भीड़ इख्ट्टा हुई।

बिहार एक्सप्रेस बुलेटिन-17-06-2019

लंबी कतार लगाए खड़े रहे मरीज़

ओपीडी शुरू होते-होते मरीजों की पर्ची काउंटर और चिकित्सक कक्ष के बाहर लंबी कतार लग गई। डॉक्टरों को दिखाने के लिए मरीजों को दो- से तीन घंटे तक कतार में खड़े रहना पड़ा। डॉक्टर से दिखाने के बाद दवा काउंटर पर भी मरीजों को भीड़ में परेशान होना पड़ा। काफी कोशिशों के बाद मरीजों को काउंटर पर दवा प्राप्त हो सकी। मरीज़ों की परेशानी का एक बड़ा कारण यह है कि सदर अस्पताल में डॉक्टरों की कमी है। ओपीडी के जेनरल वार्ड में डॉक्टरों की पर्याप्त संख्या में तैनाती नहीं हो पाती है।

पुरुष कर रहे प्रसव- सरकारी अस्पताल का यह है हाल

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *