Sun. Oct 25th, 2020

कोरोना से जंग हारने वाले सरकारी कर्मियों के परिवार के साथ नीतीश सरकार, पेंशन देने का किया वादा

कोरोना से जंग

ड्यूटी के दौरान कोरोना से जंग हारने वाले सरकारी कर्मियों के हित में नीतीश सरकार ने एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। अपको बता दें कि मृतक कर्मी के परिवार वालों को सरकार द्वारा सेवानिवृत्ति आयु तक विशेष पेंशन दी जाएगी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में इस फैसले को हरि झंडी दिखाई गई है। साथ ही इस बैठक में कोरोना के दौर में अपनी ड्यूटी ना निभाने के लिए आठ डॉक्टरों को बर्खास्त कर दिया गया है।

कोरोना से जंग हारने वाले सरकारी कर्मियों के परिवार वालों को ये लाभ

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा ली गई बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ड्यूटी के दौरान कोरोना के कारण अलविदा कहने वाले सरकारी कर्मियों के स्वजनों को पारिवारिक पेंशन का लाभ देने का फैसला लिया गया। साथ ही यह भी निर्देश जारी किया गया कि अगर परिवार में से कोई एक स्वजन पेंशन के बदले नौकरी चाहता है तो उसे नौकरी दी जाएगी लेकिन तब पेंशन का लाभ नहीं मिलेगा।

यह भी बता दें कि यह सुविधा पहली अप्रैल 2020 से 31 मार्च 2021 तक ड्यूटी पर निधन होने वाले कर्मियों के स्वजनों को प्राप्त होगी। वर्ष 2004 के बाद सेवा में आने वालों कर्मियों के लिए सरकार का यह फैसला बड़ा माना गया है। कोरोना के दौर में मृतक के परिवार वालों की आर्थिक स्थिति पर प्रभाव ना पड़े इस लिहाज़ से बिहार सरकार का यह फैसला महत्वपूर्ण है।

कोरोना काल में अपनी ड्यूटी भूले इन आठ डॉक्टरों को किया गया बर्खास्त

  • डॉ. संजीव कुमार (सीतामढ़ी सदर अस्‍तपाल)
  • – डॉ. कामेश्वर नारायण दुबे (छपरा सदर अस्पताल)
  • – डॉ. अजीत कुमार सिन्हा (कटिहार कुष्ठ नियंत्रण इकाई)
  • – डॉ. अशोक कुमार (तरैया रेफरल हॉस्पिटल, सारण)
  • डॉ. शाहिना तनवीर (वायसी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र)
  • – डॉ. साधना कुमारी (डुमरा पीएचसी, सीतामढ़ी)
  • – डॉ. वेणु झा (नानपुर माली बाजार पीएचसी, सीतामढ़ी)
  • – डॉ. प्रीति शर्मा (रामपुर पीएचसी, कैमूर)

अन्य खबरें पढ़ें सिर्फ बिहार एक्सप्रेस पर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *