Fri. Aug 14th, 2020

पकड़ी गयी सीओ की रिश्वतखोरी

रिश्वतखोरी
यह मामला है सुपौल जिले के त्रिवेणीगंज क्षेत्र के सीओ ध्रुव कुमार का, जिन्हें निगरानी की एक विशेष टीम के द्वारा उनके घर पर रिश्वत की रकम लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया। आज सुबह करीब 7:30 बजे 15 हजार की रकम के साथ पाया गया।
लातौन क्षेत्र के सिकंदर पासवान के अपनी दादी बुलटी देवी के खेत के लगान को जमा करने के लिए सीओ ध्रुव कुमार को आवेदन किया था। जिसके बदले में ध्रुव कुमार ने 15 हजार रकम की मांग कर काम को पूरा करने की शर्त रखी।
 सिकंदर पासवान  ने  सीओ की इस करतूत का पर्दाफ़ाश करने के लिए  उनके खिलाफ़ शिकायत दर्ज कराई। डीएसपी जमीरउद्दीन अंसारी ने  इस मामले  को संज्ञान में लेते हुए इस शिकायत की जांच के  लिए एक विशेष निगरानी टीम को  भेजा।  जब सिकंदर पासवान सीओ ध्रुव कुमार को उनके  आवास पर पैसे देने के लिए पहुँचे तो इंस्पेक्टर निजामुद्दीन के द्वारा उन्हें  रंगे हांँथों गिरफ्तार  कर लिया गया।

बिहार में  रिश्वतखोरी की यह कोई पहली घटना नही है इसके पहले ASI के द्वारा रिश्वतखोरी का वीडियो सामने आया जिसमें उसके द्वारा बेधड़क रिश्वत की मांग की गयी थी। वहीं एक और वायरल वीडियो में रोसड़ा जिले में  SI के द्वारा DSP के लिए रिश्वत की  मांग की गयी थी।

इसके पहले सबइंस्पेक्टर बबिता के  द्वारा 50 लाख की रिश्वतखोरी का मामला सामने आया। जिसमें रिश्वत की पहली किश्त 5 लाख तय की गयी थी। जिन्हे एन्टीकरप्शन ब्यूरो के  अधिकारियों के द्वारा रंगे हाथों पकड़ा गया था। इसके अलावा BDO  के द्वारा  रिश्वतखोरी के तमाम वायरल वीडियो सामने आये।

इस प्रकार सरकारी कर्मचारियों के घूसखोरी घटनाओं का प्रतिशत दिन प्रतिदिन  बढ़ता जा रहा है। घूसखोरी की घटनाएं हर स्तर पर होती देखी जा रही हैं। पद की गरिमा रिश्वत के सामने  बहुत छोटी हो गयी है। जो एक सभ्य और सुरक्षित समाज के लिए चिन्ता का विषय है। अतः समाज को भ्रष्टाचार  मुक्त बनाने के लिए व्यापकतौर पर कार्य करने  की आवश्यकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *