Sat. Sep 26th, 2020

बिहार में विधानसभा के चुनावी माहौल के बीच तेज प्रताप यादव को ब्रज भूमि के भ्रमण क्यों सूझी, जानिए

जहां एक ओर बिहार में विधानसभा के चुनावी माहौल की हलचल रफ़्तार पकड़ रही है वहीं दूसरी ओर विचलित मन को सुकून देने और पार्टी की जीत के लिए राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ब्रज भूमि का भ्रमण करते नज़र आ रहे हैं।

पार्टी की जीत के लिए पूजा अर्चना में खोए तेज प्रताप

राजद पार्टी की राजनीतिक हलचल के बारे में बात करें तो कोर्ट में तेजप्रताप की पत्नी से तलाक का मामला चल रहा है वहीं, तेजस्वी यादव ने तेजप्रताप की साली करिश्मा को राजद में शामिल करते हुए बड़ा दांव खेला है। हालांकि इस फैसले से तेज प्रताप यादव अपने छोटे भाई से नाराज़ भी नज़र आए लेकिन बाद में उन्होंने छोटे भाई द्वारा लिए गए इस फैसले को सही करारते हुए कुबूल किया।

आपको एक खास बात बताएं कि ब्रज भूमि से तेज प्रताप का अनोखा ही लगाव है। इसी के चलते पिछले सात दिनों से वह ब्रज नगरी का भ्रमण करते नज़र आ रहे हैं और राधाकृष्ण के दिव्य क्रीड़ास्थलों के दर्शन से भी नहीं चूक रहें। इस दौरान बिहार के विधानसभा चुनाव में उनकी जीत हो इसके लिए प्रार्थना भी कर रहे हैं।

इस दफा किस रूप को धारण करते नज़र आए लालू के लाल

हर बार तेज प्रताप नए नए रूप में नज़र आते हैं। इस बार वह कुर्ता धारण कर के माथे पर वैष्णव तिलक लगाकर साधक वेश में
ब्रज भूमि के भ्रमण में मग्न हैं। इस दौरान वे बृजेश्वर महादेव, आशेश्वर महादेव, टेर क़दम्ब, यशोदा कुंड, पावन कुंड, वृंदा देवी, वृषभान कुंड, प्रियाकुंड, माताजी गौशाला, मोरकुटी, राजस्थान के पहाड़ी क्षेत्र में गंग राजा द्वारा स्थापित माता अंजनी का मंदिर, झिरका फिरोज़पुर स्थित झिरका महादेव मंदिर गए और वृंदावन के यमुना तट पर जल विहार किया।

पूर्व जेल विजिटर एवं उनके मित्र लक्ष्मण प्रसाद शर्मा का कहना है कि जब भी तेज प्रताप यादव का मन विचलित होता है तो वह
ब्रज भ्रमण पर निकल पड़ते हैं और बिल्कुल साधक रूप में तमाम लीला स्थलों के दर्शन करते हैं।

इस दौरान उन्होंने प्राचीन महादेव मंदिरों में बिहार विधानसभा चुनाव में राजद की जीत के लिए पूजा अर्चना की। इस अवसर पर उनके साथ वृंदावनी फाउंडेशन के चेयरमैन धनंजय कुमार भी शामिल हुए।

अन्य खबरें पढ़ें सिर्फ बिहार एक्सप्रेस पर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *