Sat. Aug 8th, 2020

बिहार में बढ़ेगी ठंड, मौसम विभाग ने ज़ारी किया अपडेट

बिहार में बढ़ेगी ठंड : जनवरी का आधा महीना बीतने को है और बिहार में ठण्ड है कि कम होने का नाम ही नहीं लेती है। अब इसको लेकर मौसम विभाग ने ताज़ा अपडेट जारी किया है जिससे लोगों को राहत मिलती नहीं दिखती है। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि रविवार को धूप के बावजूद बर्फीली हवाओं ने राजधानी सहित बिहार के अधिकांश हिस्सों में शीतलहर की स्थिति पैदा कर दी।

मौसम विभाग ने अनुमान लगाया है कि अगले 2-3 दिनों में अधिकतम तापमान और न्यूनतम तापमान के बीच का अंतर कम होगा और रात के तापमान में 2-3 डिग्री सेल्सियस की गिरावट होगी। गया का शनिवार को न्यूनतम तापमान 4.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

पटना मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार, शनिवार को शहर का न्यूनतम तापमान 8.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इसके अलावा, भागलपुर में यह 12.6 डिग्री सेल्सियस और पूर्णिया में 11.9 डिग्री सेल्सियस था।

पति से परेशान पत्नी ने माँगा तलाक, कारणों में बताई अजीबो गरीब आदतें, जानिए

बिहार में बढ़ेगी ठंड : मौसम विभाग के अनुसार

मौसम विभाग ने कहा कि अगले 3-4 दिनों में उत्तर-मध्य बिहार के जिलों में अन्य जिलों की तुलना में ठंड बढ़ जाएगी। पटना में शनिवार को अधिकतम तापमान 18 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने के आसार थे। शहर में शुक्रवार को अधिकतम तापमान 17.4 डिग्री और न्यूनतम 12.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ राजेंद्र जेनामनी कहते हैं, “यह एक लंबा वक़्त है, जो प्रकृति में बहुत अनूठा है और पूरे उत्तर-पश्चिम भारत को प्रभावित करेगा।”

तेजस्वी यादव सड़कों पर उतरेंगे लोगों को CAA के खिलाफ समझाने के लिए

इंडो-गंगा के मैदानी इलाकों में स्मॉग के घने आवरण और हिंद महासागर की असमान वार्मिंग में पश्चिमी विक्षोभ के इस मजबूत वेव में खेलने की भूमिका है, भूमध्यसागरीय क्षेत्र में उत्पन्न होने वाले विजातीय तूफान सर्दियों के उत्तर-पश्चिमी भागों में सर्दियों की बारिश का कारण बनते हैं।

शीर्ष वैज्ञानिकों को डर है कि जलवायु परिवर्तन के कारण इस तरह के कठोर और अप्रत्याशित मौसम की स्थिति लोगों को परेशान करती रहेगी। अभी ठंड और बढ़ेगी इसलिए कम्बल-रजाई, दवाई और कपड़े रखे रहिए और हीटर-अंगीठी के माध्यम से गर्माहट लेते रहिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *