Tue. Nov 12th, 2019

बिहार एसटीइटी एग्जाम 2019 इस वजह से स्थगित हुआ

बिहार एसटीइटी एग्जाम 2019

बिहार एसटीइटी एग्जाम 2019 : करीब सात साल की रुकावटों और विवाद के बाद बिहार माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा आयोजित की जानी थी। अब फिर से एक ठोस रुकावट के चलते इसके आयोजित होने पर ग्रहण लग गया है। बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड ने एक आधिकारिक प्रेस विज्ञप्ति जारी करके घोषणा की है कि 7 नवंबर, 2019 को आयोजित होने वाली बिहार एसटीईटी परीक्षा 2019 को अब स्थगित किया जा रहा है। परीक्षा की नई तारीख अभी तय नहीं हुई है।

एसटीईटी के लिए आवेदकों की ऊपरी आयु सीमा बढ़ाने के पटना हाईकोर्ट के 15 अक्टूबर के आदेश के बाद, बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड एसटीईटी परीक्षा को स्थगित करने के निर्णय के साथ सामने आया है।

बिहार एसटीइटी एग्जाम 2019 : तकीनीकी पेंच को समझिये

Bihar STET 2019 exam postponed. (Screengrab)

रेलवे का बड़ा तोहफा ! छठ पूजा पर दिल्ली से पटना स्पेशल ट्रेन शुरू

प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, बिहार शिक्षा विभाग जो इस परीक्षा का संचालन निकाय है wah कानूनी विभाग के साथ चर्चा करने के बाद संशोधित ऊपरी आयु सीमा तय करेगा जिसके बाद परीक्षा की अंतिम तिथि घोषित की जाएगी।

इससे अभियर्थियों का निराश होना स्वाभाविक है किन्तु मामला कोर्ट में विचाराधीन था और उसके बाद जो भी कोर्ट कहता उसे अनुपालन होना कानूनी तौर से ज़रूरी है। ऊपरी आयु सीमा को संशोधित करने की मांग अरसे से चली आ रही है और इसी वजह से बोर्ड कोई भी गलती करने से बचना चाहेगी।

अभियर्थियों को अभी इंतज़ार करना होगा कि जल्द से जल्द शिक्षा विभाग की ओर से लिखित में एडवाइजरी ज़ारी हो और बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड जल्द से जल्द आयोजन को आगे बढ़ा सके क्योंकि इस एग्जाम को बिहार शिक्षा विभाग की अगुवाई में आयोजित हो रहा है।

इसके ऊपरी आयु सीमा के तकनिकी पेंच के चलते 9वीं से 12वीं तक के लिए अप्लाई करने वाले करीब 5 हज़ार अभियर्थियों ऐसे हैं जिनकी आयु सीमा समाप्त हो चुकी थी और इसी के चलते अब वह फिर से एग्जाम देना चाहते हैं। बता दें कि सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों को 10 साल की छूट देते हुए 37 साल उम्र सीमा रखी गई है। वहीं सामान्य वर्ग की महिला अभ्यर्थी और आरक्षित वर्ग के लिए 40 साल उम्र सीमा है।

एसटीईटी परीक्षा 2019 नौंवी और 10वीं कक्षा के लिए 25 हजार 270 और 11वीं व 12वीं के लिए 12 हजार 65 रिक्त पदों पर आयोजित होगी। इसका अर्थ है कि कुल 37 हजार 335 खाली पदों पर इस परीक्षा के माध्यम से नियोजन होगा।

 

यह खबरें भी ज़रूर पढ़ें :-

जदयू मोदी सरकार मंत्रिमंडल का हिस्सा नहीं होने वाली है : सीएम नीतीश कुमार

महाभारत और रामायण से जुड़ी है छठ की मान्यता , जानिए पूरी कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *