Mon. Dec 16th, 2019

झारखण्ड में एनडीए अलग-थलग, क्या बिहार में पड़ेगा असर ?

झारखण्ड में एनडीए अलग-थलग

झारखण्ड में एनडीए अलग-थलग : बिहार में भले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में सब ठीक हो लेकिन झारखण्ड में ऐसा होता बिलकुल नहीं लग रहा है. जहाँ जनता दल यूनाइटेड ने झारखण्ड विधानसभा चुनाव के लिए अपने उम्मदवारो की पहली लिस्ट ज़ारी कर दी है तो वहीँ लोक जनशक्ति पार्टी ने भी हाफ-हाफ सीट शेयरिंग प्लान पर बात न बनने के बाद झारखण्ड में अपनी पार्टी के 50 उम्मीदवारों को उतारने की घोषणा कर दी है.

लोजपा के अध्यक्ष चिराग पासवान ने साफ़ तौर पर कहा कि जिन सीटों पर भाजपा ने पहले से ही उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है उन्हीं सीटों पर अपने उम्मीदवारों को लड़ाने की मांग की थी इसलिए अब पार्टी झारखण्ड में अकेले चुनाव लड़ेगी. लोजपा ने टोकन के रूप में सीटों को लेने की बजाय 50 सीटों पर लड़ने अकेले लड़ने को तैयार है और इसी के तहत आज यानी 12 नवंबर को शाम पार्टी ने उम्मेदवारों की अपनी पहली सूची का एलान कर दिया है.

महाराष्ट्र में शिवसेना-भाजपा गठबंधन पतन पर सीएम नीतीश कुमार ने रखी अपनी बात

एनडीए अलग-थलग : दिल्ली में भी बिहार एनडीए के साथ खिलाफ में लड़ेंगे चुनाव

इसके बाद लोजपा ने दिल्ली विधानसभा चुनाव में भी खुद ही किस्मत आजमाने की सोची है और एलान किया यहाँ भी वह अकेले ही चुनाव लड़ेगी. दिल्ली और झारखण्ड में भले ही लोजपा एवं जदयू सरीखी राज्य पार्टियों का ज़्यादा प्रभाव न लो लेकिन वोट कटुआ के रूप में यह झारखण्ड में फिलहाल सत्ताधारी और दिल्ली में बरसो का वनवास ख़त्म करने की मंशा लिए भारतीय जनता पार्टी को नुक्सान पहुंचाकर विपक्ष की ही भूमिका निभाएगी.

फिलहाल बिहार में इसका तात्कालिक असर देखने को न मिले किन्तु यदि कल किसी बात पे एनडीए की पार्टियों के बीच खटास आ जाए तो यह गठबंधन में गाठ पड़ने का सूचक ज़रूर होगा जो कि आगामी विधानसभा चुनाव से पहले शुभ सनेक्त किसी के लिए भी नहीं है.

 

यह खबरें भी ज़रूर पढ़ें :-

बेगूसराय में हाथी का मर्डर, फ़िज़ूल बात पर दे दिया ज़हर ………..

मुकद्दर का सिकंदर का फर्स्ट लुक आउट, देखिये इस एक्टर की शानदार झलक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *