Sun. Jun 7th, 2020

बिहार में प्रधानमंत्री किसान निधि योजना से हो रहा है किसानों को अधिक लाभ 

प्रधानमंत्री किसान निधि योजना

प्रधानमंत्री किसान निधि योजना : बिहार में प्रधानमंत्री किसान निधि योजना के तहत अब तक किसानों के बीच 1632 करोड़ रुपये की राशि वितरित की गई है। इसमें, जहां प्रधानमंत्री किसान पोर्टल द्वारा खारिज किए गए आवेदनों की संख्या पहले 3 लाख 56 हजार थी तो वहीं सरकार द्वारा निरंतर प्रयासों के बाद, अब यह संख्या घटकर मात्र 1 लाख 48 हजार रह गई है।

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने कहा कि साल 2019-20 में, बिहार के 44 लाख किसानों के खाते में किसान सम्मान निधि की पहली किस्त और 30 लाख 79 हजार किसानों के खाते में दूसरी किस्त को मिलाकर अब तक 1,632 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए जा चुके हैं।

उन्होंने संतोष व्यक्त किया है कि “दो साल पहले तक, बैंक खातों, शाखा कोड और IFSC इत्यादि में त्रुटियों के कारण, पीएम किसान पोर्टल द्वारा खारिज किए गए आवेदनों की संख्या 3 लाख 56 हजार थी, जबकि निरंतर प्रयासों के बाद यह घटकर सिर्फ 1 लाख 48 हजार रह गया है।

 

बोले सीएम नीतीश – सीवान में खुलेगा मेडिकल कॉलेज और शराबबंदी से……

प्रधानमंत्री किसान निधि योजना : डिप्टी सीएम से जताई संतुष्टि इस बात पर 

डिप्टी सीएम मोदी ने जोनल अधिकारी और अपर कलेक्टर के स्तर पर तीन महीने से अधिक समय से जमीन की जांच के लंबित आवेदनों के निष्पादन में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं और पंचायतवार सूची बनाकर मुख्यालय स्तर से कृषि समन्वयकों को एक एसएमएस के ज़रिये सूचित करने को कहा है जिससे , कि किसानों को उनके आवेदनों की त्रुटियों को व्यक्तिगत रूप से संपर्क करके जल्द से जल्द निष्पादित किया जा सके।

प्रधानमंत्री किसान निधि योजना से वास्तव में बिहार सहित उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा आदि के उत्तरी राज्यों में किसानों की प्रगति का नया पथ प्रशस्त हुआ है जिससे एक दूरी हरियाली क्रांति की शुरुआत हुई है।

भारतीय गणितिज्ञ स्वर्गीय वशिष्ठ नारायण सिंह पर बनने वाली है बायोपिक

इसके अतिरिक्त यदि धरातल पर देखा जाए तो कोई भी बिहार की पहले से उपजाऊ भूमि, नए आधुनिक कृषि यंत्र एवं उपकरण, बेहतर सिंचाई सुविधा व खुशहाल किसान परिवारों को देख के अंदाज़ा लगा सकता है कि जब सीएम नीतीश कुमार और पीएम मोदी की जोड़ी का डबल इंजन जुड़ता है तो विकास भी डबल होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *