Fri. Oct 30th, 2020

अप्रत्यक्ष रुप से बाहुबली नेता-गण द्वारा बिहार पर राज करने की कोशिश जारी

बाहुबली नेता

-आकांक्षा मिश्रा

लोकसभा चुनावों की तिथियां घषित होने बाद से अनेक पार्टियों के उममीदवारों में अपने -अपने क्षेत्र के सीटों को पीने की होड़ लगी हुई है। इस दौड़ में बिहार के बाहुबली नेता स्वयं को कैसे पीछे छोड़ सकते हैं। स्वयं किसी न किसी अपराध में शामिल होने के कारण बिहार के बाहुबली अपनी -अपनी पत्नियों को टिकट दिलाने के लिए मशक्कत कर रहे हैं।

गोपालगंज डीएम जी कृष्णैया की हत्या के मामले में आजीवन सजा काट रहे राजनेता आनंद मोहन ने सभी महागठबंधन पार्टीयों को चेतावनी देते हुए कहा कि उनकी पत्नी लवली आनंद को शिवहर बिहार से टिकट ना मिलने पर सभी को घातक परिणाम का सामना करना पड़ेगा। पीपल्स पार्टी के अध्यक्ष रह चुके बाहुबली नेता आनंद मोहन ने सरहसा सिविल कोर्ट में सुनवाई के बाद मीडिया से बात करते हुए आगामी लोकसभा चुनाव पर धमकी भारी टिप्पणी की।

जेल में रहते हुए 2015 में मोकामा से विधानसभा सीट पर विजय प्राप्त कर चुके बाहुबली अनंत सिंह द्वारा अपनी पत्नी नीलम देवी के लिए मुंगेर से कांग्रेस का टिकट दिलाने पर पूरा जोर है। वहीं दूसरी ओर अपने बाहुबल। के लिए प्रसिद्द सुरभान सिंह द्वारा अपनी पत्नी वीना देवी को टिकट दिलाने की मशक्कत जारी है।

लोकसभा चुनाव में जन भागीदारी बेहतर नेता चुनने की है। एक ऐसा राजनेता जो धर्म जाति से ऊपर उठकर विकास का मार्ग अपनाए। जिसका प्रयास अपराध मुक्त देश की ओर हो। परंतु क्या वर्तमान परिस्थितियां देश में बदलाव की हैं? शायद नहीं! इस प्रकार अपराधिक तत्वों का सक्रिय होना खतरनाक है !

यदि वो इस चुनाव में भाग नहीं ले सकते तो क्या हुआ अपनी पत्नी के कंधे पर बंदूक रखकर सत्ता और शासन व्यवस्था में शामिल होने को लेकर अत्यंत प्रयासरत हैं। समय रहते इन असामाजिक तत्वों पर लगाम लगाने की आवश्यकता है चाहे वह प्रशासन द्वारा पूर्ण किया जाए अथवा जनता जागरूक होकर ऐसा करने उन्हें रोक सकती है।

हर बार चुनाव में बाहुबलियों का ही बोलबाला रहता है और इसका प्रमाण है बिहार से लेकर हरियाणा तक पूरा उत्तर भारत का बेल्ट बाहुबली नेता जब खुद चुनाव न लड़ पाएं तो वह krte यह है कि apni बीवी से लेकर साले तक चुनाव लड़वाने में लग जाते है

 

यह भी पढ़ें :– लालू प्रसाद यादव के लाल तेज़ प्रताप यादव काशी विश्वनाथ दर्शन कर के आये फिर बताई अपनी मन्नत

यह भी पढ़ें :- “ट्विटरहॉलिक” लालू प्रसाद यादव

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *