Sun. Jun 7th, 2020

नीतीश कुमार के लिए जनता में है आक्रोश, बिहार की राजनीति पर पड़ेगा इसका असर

बिहार की राजनीति

PTI9_9_2018_000102B

देशभर में कोरोना संकट अपने चरम सीमा पर है ऐसे में इसके लिए बिहार सरकार कैसा काम कर रही है? यह हर कोई जानना चाह रहा है क्योंकि इस समय में ये सबसे ज्यादा चर्चा का विषय बना हुआ है। बात करें इस स्थिति में बिहार की जनता की तो क्या लगता है उन्हें एक बार फिर से नीतीश सरकार पर भरोसा जताना चाहिए? दरअसल ये सवाल इसलिए उत्पन्न हो रहे हैं क्योंकि अब बिहार विधानसभा चुनाव को महज 4 से 5 महीने ही शेष बचे हैं।

जी हां हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि अक्टूबर-नवंबर में संभावित चुनाव के मद्देनजर विपक्षी दल इस कोरोना संकट को लेकर बहुत कुछ तो नहीं कर पा रहे हैं लेकिन इसके कारण नीतीश सरकार को घेरने का कोई अवसर भी नहीं जाने देना चाह रहे। तभी तो यही वजह है कि तेजस्वी यादव और उपेंद्र कुशवाहा जैसे नेता बार-बार कोटा में फंसे छात्रों और अप्रवासी मजदूरों का मुद्दा लगातार सोशल मीडिया पर उठाते रहे हैं।

कोटा में बिहार के छात्रों को सरकार से मिली परमिट, फिर भी कम नहीं हो रही मुश्किलें

हालांकि इनसबके साथ एक सवाल यह भी है कि नीतीश सरकार क्या खुद अपने ही सवालों में उलझी पड़ी हुई है या फिर वह विपक्ष के सवालों का जवाब देना भी मुनासिब नहीं समझती है। इन प्रश्नों के बीच दो बड़े सवाल ऐसे हैं जिसका आने वाले चुनाव पर क्या असर होगा इस बात का जवाब स्वयं 15 वर्षों से बिहार की सत्ता पर काबिज नीतीश सरकार के पास भी नहीं है।

क्या अब बदलेगी बिहार की राजनीति

अब ऐसे में बात करें अगर वरिष्ठ पत्रकार अशोक कुमार शर्मा की तो उनका मानना है कि सीएम नीतीश कुमार को लगता है कि वे पीएम मोदी के नाम के आसरे चुनाव जीत जाएंगे, पर ये भी जमीनी सच्चाई है कि कोरोना संकट अभी लंबा चलेगा, ऐसे में केंद्र की सरकार के खिलाफ भी असंतोष बढ़ने की ही आशंका अधिक दिख रही है।

यही नहीं इस आक्रोश को भुनाने की कोशिश में तो जरूर है पर कोरोना संकट और लॉकडाउन की वजह से वह बहुत कुछ कर पाने की स्थिति में फिलहाल नहीं है, लेकिन जनता के हाथ खुले हैं और ये दोनों आक्रोश भी लोगों के दिलों में जीवित हैं और आने वाले चुनाव तक अगर इसी तरह आक्रोश की ये आग धधकती रही तो बिहार की राजनीति में बड़े बदलाव हो सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *