Fri. Aug 14th, 2020

बिहार की राजनीति में दिखा परिवारवाद का तमाशा, पिता गए लोकसभा तो पुत्र देख रहा विधानसभा की राह

देश में कोरोना वायरस की वजह से तबाही मची हुई है लेकिन बिहार में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर काफी गर्मी है। इस दौरान तमाम पार्टियां आमने-सामने और नई-नई अलग पार्टियों की बन रही हैं जिसके कई उम्मीदवार भी मैदान में नजर आने लगे हैं। फिलहाल इस समय बिहार विधानसभा में परिवारवाद भी खूब देखने को मिल सकता है और वो ऐसे कि सबसे ज्यादा चर्चा में कुछ ऐसे उम्मीदवार चल रहे है जिनके पिता पहले से ही लोकसभा की शोभा बढ़ा रहे हैं और अब वो विधानसभा की आस देख रहे हैं।

बिहार विधानसभा में खूब देखने को मिलेगा परिवारवाद

सबसे पहले हम बात करते हैं भारतीय जनता पार्टी के सांसद छेदी पासवान कि जो चेनारी और मोहनिया विधानसभा क्षेत्र के सदस्य रहे हैं। फिलहाल उनके पुत्र रवि शंकर पासवान जो कि साल 2015 में ही उम्मीदवार थे और चूंकि उस दौरान उन्हें बीजेपी से टिकट नहीं मिल पाया तो वह मुलायम सिंह यादव की सपा पार्टी में शामिल हो गए थे। जब वहां से उन्हें हार मिली तो उसके बाद एक बार फिर से वह बीजेपी की टीम में ज्वाइन हुए।

इस बार उन्होंने पार्टी के लिए काफी मेहनत भी की और उन्हें प्रदेश कार्यसमिति का सदस्य बनाया गया। इस दौरान रवि ने तकरीबन 8000 से भी अधिक नए लोगों को बीजेपी का सदस्य के रूप से जोड़ा। बताया जा रहा है कि दोनों सीटों पर एनडीए का ही कब्जा है, लेकिन रवि को इस बात की आस है कि पार्टी के माननीय इसका कोई रास्ता निकाल ही लेंगे।

कुछ ऐसा ही किस्सा अर्जित शाश्वत के साथ भी है जो केंद्रीय राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के पुत्र हैं और पिछली बार भागलपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़े थे। अर्जित शाश्वत पिछली बार भागलपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़े थे हालाँकि वो 11 हजार वोटों की अंतर से हार गए थे मगर इसके बावजूद वह अपने क्षेत्र में काफी सक्रिय थे। उन्हें भी इस बार विधानसभा से टिकट की आस लगी हुई है।

इसी तरह की स्थिति पूर्व केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव के बेटे अभिमन्यु की भी है जो खुद कभी विधानसभा की सदस्य नहीं बन पाए। मगर इस बार उनका बेटा अपने पिता की इस कमी को पूरा करने की कोशिश में जुटा हुआ है। बताते चलें कि अब अभिमन्यु की नजर औरंगाबाद जिले की ओबरा विधानसभा सीट पर है और यहां से वह एनडीए के किसी दल से उम्मीदवार बनने की कोशिश कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *