Mon. Feb 17th, 2020

शहीद के सम्मान में फिर से दगा दे गई बिहार पुलिस की बंदूक

शहीद के सम्मान में फिर से दगा दे गई बिहार पुलिस की बंदूक
दगा दे गई बंदूक : जम्मू कश्मीर में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए सीआरपीएफ के जवान रमेश रंजन को अंतिम विदाई देने के वक्त एक बार फिर से बिहार पुलिस की बंदूक दगा दे गई। गुरुवार को दोपहर रमेश रंजन का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव भोजपुर जिला के जगदीशपुर इलाके में किया गया। शहीद को श्रद्धांजलि देने के लिए भारी संख्या में सीआरपीएफ के अलावा बिहार पुलिस के जवान भी मौजूद थे। इस दौरान जब शहीद को फायरिंग कर श्रद्धांजलि देने की बारी आई तो बिहार पुलिस की बंदूकें गोलियां उगलने में नाकामयाब रहीं।

दगा दे गई बंदूक : बंदूक लेकर मूकदर्शक बने रहे पुलिस के जवान

रमेश रंजन को श्रद्धांजलि देने के लिए आरपीएफ के जवानों ने 5 बार इंसास रायफल से ट्रिगर दबा कर फायरिंग की। लेकिन इस दौरान बिहार पुलिस के जवान कंधे पर बंदूक लेकर मूकदर्शक बने रहे। बिहार पुलिस के जवानों ने केवल एक राउंड फायरिंग की। इस पूरी घटना का वीडियो भी सामने आया है जिसमें सीआरपीएफ के जवान जहां बंदूक से फायरिंग करते दिख रहे हैं वहीं बिहार पुलिस के जवान कंधे पर बंदूक रखे खड़े हैं। बिहार पुलिस के इस कारनामे की एक बार फिर से चारों ओर चर्चा होने लगी है।इस मामले में जब मीडिया ने स्थानीय पुलिस अधिकारी से बात करने की कोशिश की तो किसी भी अधिकारी ने व्यस्तता का हवाला देते हुए कुछ कहने से मना किया। इससे पहले शहीद रमेश रंजन के शव को उनके पैतृक गांव देव टोला में ही अंतिम विदाई दी गई। शहीद के शव को उनके पिता ने मुखाग्नि दी। इस दौरान भारत माता की जय, शहीद रमेश अमर रहें के साथ-साथ पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे भी लगते रहे।

आतंकवादी हमले में रमेश रंजन शहीद हो गए थे :

बता दें कि बुधवार को  श्रीनगर में CRPF पर हुए आतंकवादी हमले में रमेश रंजन शहीद हो गए थे। वो सीआरपीएफ की 73वीं बटालियन में पदस्थापित थे। रमेश रंजन मूल रूप से भोजपुर जिले के जगदीशपुर थाना इलाके के इसाढ़ी के देव टोला के रहने वाले थे। शहीद रमेश का परिवार फिलहाल आरा शहर के गोढ़ना रोड स्थित मोहल्ले में रहता है।
रमेश के दोस्तों ने बताया कि उनके परिवार को सीआरपीएफ ने शहीद होने की सूचना दी जिसके बाद पूरे घर में कोहराम मच गया। बिहार एक्सप्रेस को मिली जानकारी के मुताबिक, रमेश नवंबर महीने में घर आए थे और कुछ दिन पहले ही वो वापस ड्यूटी पर गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *