Sun. Jan 19th, 2020

बिहार में भारत बंद का ऐसा रहा असर

बिहार में भारत बंद

बिहार में भारत बंद : कई ट्रेड यूनियनों द्वारा दी गई देशव्यापी हड़ताल के आह्वान के बाद बुधवार को CPI-M के कार्यकर्ताओं ने पटना-आरा हाईवे पर जाम लगाने के बाद कई वाहनों को कई स्थानों पर फंसे छोड़ दिया गया।

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी-मार्क्सवादी (CPI-M) ने पटना से लगभग 55 किलोमीटर पश्चिम में आरा, कयामनगर और कोईलवर में आरा-पटना राजमार्ग को अवरुद्ध कर दिया।

पार्टी कार्यकर्ताओं ने सरकारी मजदूर विरोधी नीतियों और सार्वजनिक उपक्रमों के निजीकरण को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए सड़कों पर गाड़ियों के टायर जलाए। उन्होंने सरकार के साथ अपनी 16 मांगों को भी उठाया।

ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस (AITUC), सेंटर ऑफ़ इंडियन ट्रेड यूनियन्स (CITU), इंडियन नेशनल ट्रेड यूनियन कांग्रेस और लेबर प्रोग्रेसिव फेडरेशन (LPF) ने केंद्र सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों और प्रयासों के विरोध में देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया था राज्य द्वारा संचालित उपक्रमों का निजीकरण का विरोध करना इसमें प्रमुख मुद्दा रहा।

विचाराधीन कैदी ने खाया ज़हर, जेल सुरक्षा पर उठे सवाल

बिहार में भारत बंद : देश भर में रहा था फ्लॉप शो

Image result for bihar patna bharat bandh

देश भर में हड़ताल में भाग लेने वाले ट्रेड यूनियनों में इंडियन नेशनल ट्रेड यूनियन कांग्रेस (INTUC), ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस (AITUC), हिंद मजदूर सभा (HMS), सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन (CITU), ऑल इंडिया यूनाइटेड यूनियन यूनियन , ट्रेड यूनियन कोऑर्डिनेशन सेंटर (टीयूसीसी), सेल्फ एम्प्लॉइड वुमेन्स एसोसिएशन (एसईडब्ल्यूए), ऑल इंडिया सेंट्रल काउंसिल ऑफ ट्रेड यूनियंस (एआईसीसीटीयू), लेबर प्रोग्रेसिव फेडरेशन (एलपीएफ) और यूनाइटेड स्टेट यूनियन कांग्रेस (यूटीयूसी) भी इसमें शामिल रहे।

RJD प्रवक्‍ता का बड़ा बयान , बोले – नीतीश के साथ कभी नहीं होगा गठबंधन

भारत बंद में 25 करोड़ लोगों के शामिल होने की बात कही जा रही थी लेकिन 25 लाख लोग भी इसमें शामिल नहीं हुई इसलिए यह निष्कर्ष आराम से निकलता है कि आखिरकार यह फ्लॉप शो पिछली बार के मुक़ाबले भी अधिक फ्लॉप ही निकला। अब जाकर भी इन देश विरोधी ताकतों या फिर कहे टुकड़े-टुकड़े गैंग को सबक नहीं मिलता है तो फिर हम निश्चित तौर पर एक बहुत बड़े ध्रुवीकरण के दौर का सामना करने को मजबूर हो जायेंगे। बिहार में इस सबका भारत बंध सुपर फ्लॉप रहा जहाँ केवल वाम संगठन के अंडरपेड कार्यकर्त्ता ही देखने को मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *