Wed. Nov 13th, 2019

पेशी के लिए चश्मा पहने अनंत सिंह ने दिखाया स्टाइल पर पहले ही हो चुके हैं दोषी करार !

चश्मा पहने अनंत सिंह

चश्मा पहने अनंत सिंह : बिहार की राजनीति में खुद को सबसे बड़ा बाहुबली नेता बताने वाले अनंत सिंह दोषी करार दिए जाने के बाद भी स्टाइल मारने से बाज नहीं आ रहे है. मोकामा से विधायक अनंत सिंह को सुनवाई में पेशी के लिए पटना हाई कोर्ट लाया गया. कोर्ट परिसर में आते वक़्त उन्होंने ऐसी एंट्री मारी मानो किसी फिल्म के विलेन बन बैठे हों. चेहरे पर काले चश्मे और अपने वही पुराने सफ़ेद रंगी कुर्ते में अनंत सिंह 90 के दशक के गुंडे लग रहे थे. जैसी ही पुलिस उन्हें पटना लेकर पहुंची तो उनके फैंस कम समर्थक आसपास जुटने लगे.

एमएलए अनंत सिंह को भागलपुर जेल से एमपी-एमएलए कोर्ट में पेशी के पटना लाया गया. कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच अनंत सिंह को पुलिस टीम कैदी वैन से पटना लेकर पहुंची. अनंत सिंह की पेशी इस वक्त पटना के कोर्ट में पेशी हो रही है. यह पेशी लदमा स्थित उनके पैतृक आवास से बरामद एके-47 और हैंड ग्रेनेड मामले में हो रही है. मालूम हो कि अनंत सिंह को सरेंडर करने के बाद पहले पटना के बेउर जेल में रखा गया था जिसके बाद उनको भागलपुर में सुरक्षा कारण की वजह से शिफ्ट किया गया था.

बाहुबली अनंत सिंह पर तीन पुराने मामले चल रहे हैं. एक मामला बेउर जेल में छापेमारी का है. एमपी-एमएलए कोर्ट के विशेष न्यायाधीश राजीव नयन ने आरोप गठन के लिए 8 नवंबर की अगली तारीख निर्धारित की है. कल अनंत सिंह को फिर से एमपी- एमएलए कोर्ट में पेश किया जाएगा. एमपी-एमएलए कोर्ट का दूसरा मामला आदर्श आचार संहिता उल्लंघन का मामला है जो बाढ़ थाना क्षेत्र का है उस मामले में भी गवाही के लिए लंबित है.

खेसारी-काजल की सुपरहिट जोड़ी की इस फिल्म ने रचा इतिहास, मिला बेस्ट अवार्ड

चश्मा पहने अनंत सिंह : कुछ भी कर सकते हैं बाहुबली जी

तीसरा मामला एके-47 रखे जाने को लेकर है और इसकी सुनवाई सीजेएम कोर्ट में होगी.बता दें कि बुधवार को ही पुलिस ने अनंत सिंह और उसके नौकर सुनील राम के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है. इससे पहले मर्डर केस में अनंत सिंह ने कबूलनामा किया था जब उसका धमकी देने वाला ऑडियो क्लिप वायरल हो चुका था.

कभी जेल में रहने को उलझन को लेकर तो कभी स्टाइलिश बनकर एंट्री मारना हो. जेल में रह-रहकर अनंत सिंह इतने बावले हो चुके हैं कि उनसे कब किसी भी तरह की समझदारी की उम्मीद करना नासमझी. एक तो विधायकी जाना तय और ऊपर से बाहर आना भी उनका अब नामुमकिन.

 

यह खबरें भी ज़रूर पढ़ें : –

लोजपा कार्यालय में मंच पर बार-बालाओं ने लगाए ठुमके , जानिए नेताओं ने क्या किया

विवाह के लिए शुभ मुहूर्त, जानिए इस साल विवाह के लिए कितने दिन हैं शुभ

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *