Thu. Jan 21st, 2021

बागी सरयू राय होंगे झारखण्ड में विपक्ष का चेहरा ?

बागी सरयू राय

झारखंड में विपक्षी दलों ने मुख्यमंत्री रघुबर दास के खिलाफ लड़ने वाले भाजपा नेता सरयू राय को बागी बनाने के लिए नैतिक समर्थन दिया है, लेकिन क्या वह चुनाव के बाद विपक्ष का चेहरा होंगे ? – यह बड़ा सवाल है।

सरयू राय ने अपना नामांकन पत्र दाखिल करते हुए कहा था, “यह भय और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई है”। राय पिछले पांच वर्षों में हमेशा अपनी ही सरकार के खिलाफ विपक्षी दलों को चारा देते रहे हैं। जेएमएम, जो भाजपा के खिलाफ राय के बयान का राजनीतिक इस्तेमाल करने की कोशिश कर रही है, ने पिछले दिनों कई मौकों पर राय से इस्तीफा देने के लिए कहा था अगर उन्हें लगता था कि रघुबर दास सरकार भ्रष्ट है।

झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने राय के मामले को भाजपा के खिलाफ ईमानदारी बनाम भ्रष्टाचार का मुद्दा बनाने का संकेत दिया। एक अवसर को भांपते हुए सोरेन ने सभी गैर-भाजपा दलों से जमशेदपुर पूर्वी सीट पर राय का समर्थन करने की अपील की, जहां से रघुबर दास भी चुनाव लड़ रहे हैं।

तेजप्रताप और तेजस्वी एक साथ दिखें, राबड़ी आवास पर नहीं रही इनकी उपस्थिति

रविवार तक रघुबर दास मंत्रिमंडल में खाद्य और आपूर्ति मंत्री रहे राय ने हमेशा भाजपा के भीतर भी ईमानदारी और स्पष्टता की छवि बनाई है। अब, विद्रोही बनने के बाद, राय भाजपा नेताओं पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते रहे हैं।

झामुमो के सूत्रों ने कहा है कि सोरेन राय के बयानों का इस्तेमाल न केवल मुख्यमंत्री के खिलाफ करने जा रहे हैं, बल्कि राज्य में भाजपा के खिलाफ लहर बनाने के लिए भी कर रहे हैं।

जेएमएम के महासचिव विनोद पांडे ने कहा, “सरयू राय ने प्रासंगिक और गंभीर सवाल उठाए हैं और बीजेपी को उन्हें जवाब देना चाहिए। पिछले पांच वर्षों के दौरान, झामुमो भूमि अधिनियमों, रोजगार, किसानों के मुद्दों को विधानसभा के अंदर और बाहर उठाने जैसे मुद्दे उठा रहा है।” इस बीच, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, राय के करीबी दोस्त, ने उनके लिए प्रचार करने से इनकार कर दिया, जो राय के लिए झटका था।

भाजपा के बागी नेता सरयू राय केवल एक बागी नेता बनकर रह चुके है जिनके लिए दिखावा करने के लिए कोई भी मौका नहीं छूट नहीं पाता है। अब उनको लगता है कि जनता उनके बेहकहावे में आकर या फिर सीधे तौर कहे तो विपक्षी दल उन्हें अपना नेता मान लेंगे तो यह सिर्फ एक कोरी कल्पना भर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिहार एक्सप्रेस ताज़ा ख़बरें